प्रभु के दर्शन के लिए करना होगा इंतजार ! फिलहाल मंदिरों के कपाट रहेंगे बंद

भक्तों को प्रभु का दीदार करने के लिए इंतजार करना होगा.

प्रभु के दर्शन के लिए करना होगा इंतजार !  फिलहाल मंदिरों के कपाट रहेंगे बंद
वहीं, ग्रामीण क्षेत्र में केवल उन्हीं धार्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति दी गई है.

जयपुर: भक्तों को प्रभु का दीदार करने के लिए इंतजार करना होगा. मंदिर प्रबंधन की ओर से 1 जुलाई से मंदिर खोलने की तैयारियां धरी की धरी रह गई है. जिला कलेक्टरों से मिले फीडबैक के बाद राज्य सरकार ने आगामी आदेशों तक धार्मिक स्थलों को आमभक्तों के लिए नहीं खोलने की मियाद बढ़ा दी है.

ये भी पढ़ें: कांग्रेस के कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं ने सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ाई धज्जियां, पायलट ने लताड़ा

वहीं, ग्रामीण क्षेत्र में केवल उन्हीं धार्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति दी गई है. जहां सामान्य दिनों में प्रतिदिन 50 या इससे कम लोग आते हैं. इन धर्मस्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग सहित कोरोना से बचाव के सभी सुरक्षात्मक उपायों की पालना करना अनिवार्य होगा. लॉकडाउन के कारण बंद हुए धार्मिक स्थलों को खोलने के लिए जिला कलेक्टरों की अध्यक्षता में गठित की गई कमेटियों के सुझावों के आधार पर शहरों में सभी और ग्रामीण क्षेत्रों में बड़े धार्मिक स्थलों को फिलहाल नहीं खोलने का सरकार ने निर्णय लिया है.

जीवन की सुरक्षा राज्य सरकार के लिए सर्वोपरि है. इसलिए जनहित में अभी ऐसा किया जाना आवश्यक है. आगामी दिनों में गुरू पूर्णिमा, सावन का महीना और बडे उत्सव होने के कारण बडी संख्या में भक्तों की भीड़ धार्मिक स्थलों पर हो सकती है. हालांकि, जयपुर में हुई धर्मगुरूओं की बैठक में 1 जुलाई से धार्मिक स्थलों को खोलने के लिए सबसे ज्यादा सुझावा जिला प्रशासन को मिले, लेकिन दूसरे जिलों में 31 जुलाई तक मंदिर बंद रखने के सुझाव मिले.

ये भी पढ़ें: तेल के दामों को लेकर कांग्रेस का प्रदर्शन, पायलट बोले- 'इसके पीछे बड़ी साजिश'