close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: रायशुमारी के बाद भी कोशिशों में जुटे हैं कार्यकर्ता, CM आवास पर लगा रहा तांता

बीजेपी मुख्यालय में देर शाम तक टिकट चाहने वालों की भीड़ उमड़ती रही और बाहर जाम के हालात बनते रहे. 

राजस्थान: रायशुमारी के बाद भी कोशिशों में जुटे हैं कार्यकर्ता, CM आवास पर लगा रहा तांता

जयपुर: प्रदेश बीजेपी में सभी 200 विधानसभा सीटों के लिए जिताऊ दावेदारों के नामों पर रायशुमारी का काम खत्म हो चुका हैं. इसके बाद भी टिकट चाहने वाले कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों की भीड़ कम नहीं हो रही है. आलम यह है कि गुरुवार को भी दिनभर मुख्यमंत्री आवास और बीजेपी मुख्यालय में टिकट चाहने वाले बीजेपी नेता और कार्यकर्ताओं की भीड़ उमड़ी रही. 

टिकट की चाहत रखने वाले नेता और पदाधिकारी मुख्यमंत्री आवास में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से मिलकर उन्हें अपना सियासी बायोडाटा देने में जुटे रहे, तो वहीं उसके बाद प्रदेश बीजेपी मुख्यालय में आकर पार्टी प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी से भी खुद को टिकट देने की गुहार करते नजर आए. कई नेता यहां मौजूद पार्टी के अन्य पदाधिकारियों के हाथ भी अपने सियासी बायोडाटा देने में जुटे रहे. 

बीजेपी मुख्यालय में देर शाम तक टिकट चाहने वालों की भीड़ उमड़ती रही और बाहर जाम के हालात बनते रहे. सुबह पार्टी प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी ने अपने कमरे में बैठकर इन कार्यकर्ता और नेताओं से सियासी बायोडाटा लिए, तो वही भीड़ बढ़ने पर मदन लाल सैनी पार्टी कार्यालय में बने गार्डन में आकर ही बैठ गए और यहां सबसे मुलाकात कर उनके सियासी बायोडेटा लिया और आश्वासन देकर उन्हें रवाना किया. यहां कुछ लोग नाथद्वार विधानसभा सीट से भी आए जो दिवंगत विधायक कल्याण सिंह के परिजनों में से किसी एक को बीजेपी का टिकट देने की वकालत करने लगे. 

उन्होंने इस मामले में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से भी मुलाकात की, तो वहीं पार्टी प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी से भी यही मांग की. यह मांग करने वाले नाथद्वारा क्षेत्र के कुछ संत भी थे जिन्होंने मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष से कहा कि यदि पार्टी दिवंगत कल्याण सिंह के परिवार में से ही किसी को टिकट देती है तो वहां बीजेपी की जीत सुनिश्चित है. 

वहीं कुछ नेता ऐसे भी पहुंचे जो बीजेपी की रायशुमारी शुरू होने के साथ से ही जयपुर में अपना डेरा डाले हुए हैं. ये नेता रोजाना पार्टी प्रदेश अध्यक्ष से लेकर मुख्यमंत्री तक अपनी सियासी बायोडाटा देने और टिकट की गुहार करने में जुटे हैं. ऐसे ही नेताओं में शामिल कामां विधानसभा क्षेत्र से आए बृजेन्द्र लोधा भी दावेदारों की इस भीड़ में खुद के टिकट के लिए पार्टी मुख्यालय और सीएमआर के चक्कर लगाते नजर आए. इनकी माने तो रायशुमारी में इन्हें वोटिंग का अधिकार नहीं था इसलिए वो आला नेताओं से व्यक्तिगत मुलाकात कर अपनी दावेदारी जाता रहे हैं.