जयपुर: पाकिस्तानी जेल में बंद युवक को रिहाई का इंतजार

पाकिस्तानी जेल में बंद 35 वर्षीय भारतीय युवक को वतन वापसी का इंतजार है.   

जयपुर: पाकिस्तानी जेल में बंद युवक को रिहाई का इंतजार
विदेश मंत्रालय

विष्णु शर्मा, जयपुर: पाकिस्तानी जेल में बंद 35 वर्षीय भारतीय युवक को वतन वापसी का इंतजार है. जेल में उसे इतना प्रताड़ित किया गया कि वह मानसिक रूप से विक्षिप्त हो गया है. विदेश मंत्रालय के अधिकारियों से हुई काउंसलर एक्सेस(Consular Access) में युवक खुद का नाम जय सिंह और अजमेर राजस्थान का निवासी बता रहा है. ऐसे में अब विदेश मंत्रालय ने राजस्थान के गृह विभाग को युवक के परिजनों का पता लगाने के निर्देश दिए हैं ताकि उसकी वतन वापसी करा सकें.

पाकिस्तान के कराची शहर की मलीर जेल में बंद 35 वर्षीय युवक पर आरोप है कि उसने वर्ष 2011 में अवैध रूप से बॉर्डर पार कर पाकिस्तान में प्रवेश कर लिया. युवक ने एक जनवरी 2018 को अवैध रूप से प्रवेश करने की अपनी सजा भी पूरी कर ली. इन सात सालों में उसे इतनी प्रताड़ना दी गई कि वह अपनी सुध-बुध खो बैठा. इधर समझौते के तहत भारतीय अधिकारियों से पाक में बंद कैदियों से काउंसलर एक्सेस करवाई गई. इस युवक की भी काउंसलर एक्सेस(Consular Access) की गई.

पाकिस्तानी जेल में युवक से जुड़ी जानकारी
काउंसलर एक्सेस में युवक खुद का नाम जय सिंह बता रहा
पिता का नाम मांगीलाल, विक्रम सीमेंट में मजदूर 
मां का नाम रूकमण बाई, पत्नी का नाम हेमलता बता रहा
पांच वर्षीय बेटी सुनीता, 7 वर्षीय बेटा राजू, बहन ममता, निर्मला बता रहा
भाई का नाम जीवण और व्यवसाय ट्रक खलासी बता रहा है
हालांकि वह खुद का जन्म स्थान उदयपुर और वर्तमान पता बारा कोटडा, अजमेर बता रहा है
जय सिंह के बांये कंधे पर तिल, दायें गाल पर चोट का निशान है

हाल ही गृहमंत्रालय में हुई बैठक में शामिल होने गए गृह विभाग अधिकारी को विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने जयसिंह के परिजनों को ढूंढने की जिम्मेदारी दी, ताकि उसकी वतन वापसी कराई जा सके. इसके बाद गृह विभाग ने डीजीपी को पत्र लिखकर जय सिंह की नागरिकता का सत्यापन कराने के निर्देश दिए हैं. 

Related News : जयपुर: भारत जल्द ही पाकिस्तानी कैदियों को करेगा रिहा