आत्‍मनिर्भर भारत सप्‍ताह की शुरुआत, हमें दूसरों की ताकत पर निर्भर नहीं रहना चाहिए: राजनाथ सिंह

आत्‍मनिर्भर भारत सप्‍ताह की शुरुआत करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि हमें दूसरों की ताकत पर निर्भर नहीं रहना चाहिए. 

आत्‍मनिर्भर भारत सप्‍ताह की शुरुआत, हमें दूसरों की ताकत पर निर्भर नहीं रहना चाहिए: राजनाथ सिंह

नई दिल्‍ली: आत्‍मनिर्भर भारत सप्‍ताह की शुरुआत करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि हमें दूसरों की ताकत पर निर्भर नहीं रहना चाहिए. आत्‍मविश्‍वास हासिल करने के लिए आत्‍मनिर्भर होना जरूरी है. उन्‍होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 'आत्मनिर्भर भारत अभियान' का विजन इस महामारी के कठिन समय में न केवल आर्थिक वृद्धि के लिहाज से महत्‍वपूर्ण है बल्कि उससे कहीं अधिक हमारे आत्मविश्वास को बढ़ाने का एक विजन है. दूसरों के बल पर निर्भर रहकर कभी भी अपना आत्मविश्वास नहीं बनाया जा सकता है. उसके लिए स्वयं का आत्मनिर्भर होना ही एकमात्र रास्ता है. पीएम मोदी ने इसके लिए 5-I, यानी ‘Intent, Inclusion, Investment, Infrastructure और innovation’ का रास्ता सुझाया है. 

दुनिया भर में क्रांतिकारी तकनीक के प्रयोग में रक्षा उद्योग हमेशा से आगे रहा है. रक्षा तकनीक का इस्‍तेमाल सिविल क्षेत्रों में भी किया जाता है.  इसलिए रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर होना केवल रक्षा ही नहीं, बल्कि सिविल सोसायटी के लिए भी बहुत लाभकारी हो सकता है. 

यदि हम अपने सभी साजो-सामान अपने देश में ही निर्मित करने में सक्षम होते हैं, तो देश की पूंजी का एक बड़ा हिस्सा बचा सकते हैं. जिसका उपयोग हमारी रक्षा उद्योग से जुड़ी लगभग 7,000 MSMEs को बढ़ावा देने में किया जा सकता है. हम अपनी लोकल मैन्‍युफैक्‍चरिंग श्रम शक्ति को बढ़ा सकते हैं जिससे हमारा घरेलू रक्षा उद्योग और वाइब्रेंट हो जाएगा. इसके साथ-साथ इनसे जुड़ी MSMEs, स्‍टार्ट-अप, R&D इंस्‍टीट्यूट को भी बढ़ावा मिलेगा और और इनसे जुड़े लाखों परिवारों को तरह-तरह के लाभ भी मिलेंगे.

उन्‍होंने कहा कि मुझे यह बतलाते हुए ख़ुशी हो रही है कि हमने पहली बार 101 आयटम की ऐसी सूची निकाली है जो अब हम इंपोर्ट नहीं करेंगे.  इस सूचि को हम निगेटिव लिस्‍ट कहते हैं जिसमें सिर्फ छोटे आयटम ही नहीं बल्कि उच्‍च और क्रिटिकल टेक्‍नोलॉजी वाले युद्धक तंत्र भी शामिल हैं.