BJP के पूर्व सांसद वेदांती महाराज ने बताया- अयोध्या में कब बनना शुरू होगा राम मंदिर!

वेदांती ने कहा कि अयोध्या में श्रीराम मंदिर का निर्माण इसी साल 18 दिसंबर से शुरू होगा. वेदांती ने यह बयान गोरखपुर में एक निजी कार्यक्रम में दिया. 

BJP के पूर्व सांसद वेदांती महाराज ने बताया- अयोध्या में कब बनना शुरू होगा राम मंदिर!
राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण न्यास के प्रमुख सदस्य और पूर्व बीजेपी सांसद राम विलास वेदांती महराज (फाइल फोटो)

गोरखपुर. अयोध्या में राम जन्म भूमि और राम मंदिर की चर्चा इन दिनों जोरों पर है. सुप्रीम कोर्ट में इसकी सुनवाई अंतिम चरण में है और अदालत के बाहर आपसी बातचीत से कोई समाधान निकालने की कोशिश भी हो रही है. मंदिर बनाने को लेकर अयोध्या के साधू-संत कई बार घोषणा कर चुके हैं लेकिन, इस बार राम मंदिर बनाने की घोषणा राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण न्यास के प्रमुख सदस्य और पूर्व बीजेपी सांसद राम विलास वेदांती महाराज ने की है. वेदांती ने कहा कि अयोध्या में श्रीराम मंदिर का निर्माण इसी साल 18 दिसंबर से शुरू होगा. वेदांती ने यह बयान गोरखपुर में एक निजी कार्यक्रम में दिया. 

श्री श्री रविशंकर पर तीखा हमला 
आपको बता दें कि इससे पहले उन्होंने 6 दिसंबर से 2018 से अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण कार्य शुरू होने की बात कही थी. पत्रकारों से वार्ता करते हुए उन्होंने आर्ट ऑफ लिविंग के श्री श्री रविशंकर पर तीखा हमला किया. उन्होंने कहा कि शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी एक फार्मूला लेकर हमारे पास आए थे. उसमें कहा गया था कि जहां रामलला विराजमान हैं वहां रामलला की का मंदिर बनाया जाएगा और मस्जिद का निर्माण लखनऊ शिया बहुल क्षेत्र में होगा. इसके लिए हम सभी लोग तैयार हो गए और राम जन्मभूमि के अध्यक्ष गोपाल दास जी ने इसपर हस्ताक्षर भी कर दिया. उन्होंने बताया कि अयोध्या में 18 दिसंबर से राम मंदिन निर्माण कार्य शुरू होगा. उन्होंने कहा ''लेकिन, सुन्नी वक्फ बोर्ड और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ ने इस फॉर्मुले का विरोध किया है.''

यह भी पढ़ें: रामविलास वेदांती बोले- स्वीकार नहीं श्री श्री रविशंकर की मध्यस्थता

श्री श्री रविशंकर पर लगाया यह आरोप
वेदांती ने श्री श्री रविशंकर पर हमला करते हुए कहा कि वह चाहते हैं कि जहां मंदिर का निर्माण होना है वहां मस्जिद का निर्माण हो और उसके बगल में मंदिर बनाया जाए. उन्होंने कहा कि श्री श्री रविशंकर ने 20 करोड़ रुपए देकर निर्मोही अखाड़ा को अपने साथ मिला लिया है. निर्मोही अखाड़ा 20 करोड़ रुपए के एवज में मणि पर्वत के पास की जमीन देगी, जहां मस्जिद का निर्माण किया जाएगा. उन्होंने कहा कि मैंने ये बातें सुनी हैं, सच क्या है यह मैं नहीं जानता.

यह भी पढ़ें: राम मंदिर मुद्दे पर बोले श्री श्री रविशंकर, अब हालात बदल चुके हैं, लोग शांति चाहते हैं
मौलाना सलमान नदवी ने दिया था अयोध्या में राम मंदिर बनाने का फॉर्मूला
आपको बता दें कि अयोध्या विवाद सुलझाने के लिए मौलाना नदवी ने कहा था कि मुसलमानों को राम मंदिर के नाम पर जमीन छोड़ देनी चाहिए. साथ ही मस्जिद को कहीं और बनवा लेना चाहिए. मौलाना सलमान नदवी ने कहा था कि  बैठक में असदुद्दीन ओवैसी ने हंगामा करने वालों का साथ दिया. उन्होंने कहा था कि अब वह बोर्ड की बैठक में हिस्सा नहीं लेंगे. उन्होंने आरोप लगाया था कि बोर्ड पर कुछ लोगों का कब्जा है और तानाशाही चल रही है और यहां तक कि उन्हें RSS का एजेंट करार दिया गया. उन्होंने कहा था कि बोर्ड का फैसला शरीयत नहीं है और इस्लाम सबका है अकेले बोर्ड का नही है. पूरी खूबर यहां पढ़ें...

यह भी पढ़ें: वेदांती महाराज ने घोषित की राम मंदिर निर्माण की तारीख

सुप्रीम कोर्ट में 14 मार्च को अगली सुनवाई
उल्‍लेखनीय है कि राजनीतिक रूप से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन मालिकाना विवाद मामले से जुड़ी कई याचिकाओं पर गुरुवार को सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों को दस्‍तावेज तैयार करने के लिए दो हफ्ते का वक्‍त दिया और मामले की अगली सुनवाई 14 मार्च को तय की.