close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जैश-ए-मोहम्‍मद सरगना मसूद अजहर पर कसेगा शिकंजा, जारी होगा रेड कॉर्नर नोटिस!

पठानकोट आतंकी हमले के गुनहगार जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर पर अब शिकंजा कसेगा। सूत्रों के अनुसार, इंटरपोल अब मसूद अजहर के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर सकता है। बता दें कि पठानकोट एयरफोर्स बेस पर आतंकी हमले का वह मास्टर माइंड है और इस आतंकी हमले में मसूद अजहर और उसके भाई के शामिल होने के पर्याप्त सबूत हैं। सूत्रों के अनुसार, इस हमले की साजिश रचने के आरोप में मसूद अजहर के अलावा उसके भाई अब्दुल रउफ और दो अन्य आतंकियों के खिलाफ भी रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया जा सकता है।

जैश-ए-मोहम्‍मद सरगना मसूद अजहर पर कसेगा शिकंजा, जारी होगा रेड कॉर्नर नोटिस!
फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : पठानकोट आतंकी हमले के गुनहगार जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर पर अब शिकंजा कसेगा। सूत्रों के अनुसार, इंटरपोल अब मसूद अजहर के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर सकता है। बता दें कि पठानकोट एयरफोर्स बेस पर आतंकी हमले का वह मास्टर माइंड है और इस आतंकी हमले में मसूद अजहर और उसके भाई के शामिल होने के पर्याप्त सबूत हैं। सूत्रों के अनुसार, इस हमले की साजिश रचने के आरोप में मसूद अजहर के अलावा उसके भाई अब्दुल रउफ और दो अन्य आतंकियों के खिलाफ भी रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया जा सकता है।

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पठानकोट एयरफोर्स बेस पर आतंकी हमले की साजिश रचने वाले जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस की प्रक्रिया शुरू करते हुए इंटरपोल को इसके लिए पत्र लिखा है। उच्‍च पदस्‍थ सूत्रों के अनुसार मसूद अजहर के अलावा तीन अन्य आतंकियों अब्दुल रऊफ, कासिफ जान और शाहिद लतीफ़ के ख़िलाफ भी रेड कार्नर नोटिस जारी कराने की कवायद शुरू की गई है।

 

एनआईए की जांच में खुलासा हुआ है कि इस हमले में शामिल 6 आतंकियों को ट्रेनिंग कासिफ जान ने ही दी थी। इसके अलावा, कासिफ ने ही आतंकियों को सीमा पार कराने में मदद की थी।

बीते शुक्रवार को मोहाली की एक विशेष एनआईए अदालत ने वायुसेना ठिकाने पर आतंकवादी हमला करने की कथित आपराधिक साजिश रचने के लिए अजहर, उसके भाई और आतंकवादियों के सहयोगी काशिफ जान और शाहिद लतीफ के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया था। एनआईए की ओर से प्रस्तुत किए गए साक्ष्यों के आधार पर विशेष अदालत ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया। अदालत के समक्ष आतंकियों और इस हमले में उनके सहयोगी जान और लतीफ के बीच टेलीफोन पर की गई बातचीत को भी प्रस्तुत किया गया।

गौर हो कि इस साल जनवरी की शुरुआत में पठानकोट वायुसेना ठिकाने पर प्रतिबंधित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने हमला कर दिया था, जिसमें सात सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई थी। आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच तकरीबन तीन तक चली मुठभेड़ के बाद घटनास्थल से चार आतंकियों के शव बरामद किये गए थे।