close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मनी लॉन्ड्रिंगः रॉबर्ट वाड्रा ने ईडी की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट में दाखिल किया जवाब

 वाड्रा ने सबूतों के साथ किसी भी तरह की छेड़छाड़ और देश छोड़कर जाने के खतरे से भी इनकार किया है.

मनी लॉन्ड्रिंगः रॉबर्ट वाड्रा ने ईडी की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट में दाखिल किया जवाब
फाइल फोटो

नई दिल्लीः मनी लॉन्ड्रिंग मामले में रॉबर्ट वाड्रा ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट में जवाब दाखिल किया है. ईडी ने हाईकोर्ट में ट्रायल कोर्ट के आदेश को चुनौती दी है. ट्रायल कोर्ट ने वाड्रा को अग्रिम जमानत दे दी थी जिसे दिल्ली उच्च न्यायालय में चुनौती दी गई है.

वाड्रा ने अपने जवाब में कहा है कि ईडी ने खानापूर्ति के लिए जांच की थी और उनके पास लगाए गए आरोपों का समर्थन करने के लिए कोई सबूत नहीं थे. वाड्रा ने सबूतों के साथ किसी भी तरह की छेड़छाड़ और देश छोड़कर जाने के खतरे से भी इनकार किया है. उन्होंने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दस्तावेजों को जब्त कर लिया गया है और किसी भी तरह से सबूतों से छेड़छाड़ और गवाहों को प्रभावित करने का कोई आरोप नहीं है. 

वाड्रा ने अपने जवाब में जोर देकर कहा कि जहां तक देश छोड़कर जाने के जोखिम का सवाल है, वह प्रेस रिपोर्टों को पढ़ने के बाद स्वेच्छा से विदेश से भारत लौट आए थे कि ईडी उनकी जांच कर रहा था. सम्मन मिलने से पहले ही वह ईडी के सामने आने के लिए स्वेच्छा से सहयोग कर रहे थे.

अपने जवाह में वाड्रा ने आगे लिखा है कि उनकी विदेश में कोई संपत्ति नहीं है और ना ही भारत से बाहर किसी भी संपत्ति का कोई लाभकारी स्वामित्व उन्हें प्राप्त है.  किसी भी डील के लिए उन्हें कोई आय नहीं प्राप्त हुई है और इस तरह के सभी आरोप पूरी तरह से निराधार है. जांच एजेंसी का एकमात्र उद्देश्य उनके (वाड्रा) खिलाफ कोर्ट और लोगों के मन में पूर्वाग्रह पैदा करना है. 

ईडी ने दिल्ली हाईकोर्ट को पहले भी बताया था कि वाड्रा सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकते है और गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं. ईडी ने वाड्रा को हिरासत में लेकर पूछताछ करने का अनुरोध किया था.