RSS ने कहा- राम मंदिर पर जो भी फैसला आए सभी को खुले मन से स्वागत करना चाहिए

सुप्रीम कोर्ट के संभावित फैसले को देखते हुए अयोध्या में सुरक्षाबलों की संख्या भी बढ़ा दी गई है. इसके साथ ही यूपी पुलिस को हाई अलर्ट पर रखा गया है.

RSS ने कहा- राम मंदिर पर जो भी फैसला आए सभी को खुले मन से स्वागत करना चाहिए
आईबी की टीमों ने अयोध्या, वाराणसी व मथुरा में डेरा डाल रखा है.(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद को लेकर देश की सर्वोच्च अदालत यानी सुप्रीम कोर्ट ने अपनी सुनवाई पूरी कर ली है. अयोध्या को लेकर कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है, जिसे 8 नवंबर के बाद कभी भी सुनाया जा सकता है. अयोध्या विवाद पर फैसला आने से पहले सभी पक्ष आपसी भाईचारे और शांति की अपील कर रहे हैं. इस बीच, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आए उसे सभी को खुले मन से स्वीकार करना चाहिए. आरएसएस ने ट्वीट कर कहा, 'आगामी दिनों में श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के वाद पर सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय आने की संभावना है. निर्णय जो भी आए उसे सभी ने खुले मन से स्वीकार करना चाहिए.

निर्णय के पश्चात देशभर में वातावरण सौहार्दपूर्ण रहे, यह सबका दायित्व है.' इससे पहले वीएचपी और बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने भी फैसले के बाद भाईचारा बनाए रखने की बात कही थी. 

सोशल मीडिया पर भी पैनी नजर
सुप्रीम कोर्ट के संभावित फैसले को देखते हुए अयोध्या में सुरक्षाबलों की संख्या भी बढ़ा दी गई है. इसके साथ ही यूपी पुलिस को हाई अलर्ट पर रखा गया है. यूपी पुलिस सोशल मीडिया पर बेहद बारीकी से नजर रख रही है. इसके अलावा सार्वजनिक स्‍थलों, दीवारों पर लगाए जाने वाले पोस्‍टरों और लिखे जाने वाले नारों पर भी निगाह रखी जा रही है. पुलिस मस्जिदों के मौलवियों और मंदिरों के पुजारियों के साथ भी नियमित संपर्क बनाए हुए है. 30 नवंबर तक यूपी पुलिस की छुट्टियां भी रद्द कर दी गई है.

खुफिया एजेंसियां भी मुश्तैद
इन सबके बीच खुफिया एजेंसी आईबी ने यूपी के सभी प्रमुख धार्मिक स्थलों की सुरक्षा का नए सिरे से आकलन करना शुरू कर दिया है. आईबी की टीमों ने अयोध्या, वाराणसी व मथुरा में डेरा डाल रखा है. खुफिया एजेंसियों को अयोध्या फैसला को लेकर कुछ आतंकी संगठनों के सक्रिय होने की जानकारी मिली है. जिसके बाद वाराणसी में काशी विश्वनाथ, संकट मोचन और अन्य प्रमुख मंदिरों के सुरक्षा प्रबंधों को परखा गया. अयोध्या और मथुरा में भी ऐसा ही जायजा लिया गया. आईबी पिछले दो-तीन दिन से यह कवायद कर रही है.

INPUT - RAVINDER KUMAR