साईं बाबा की समाधि को हो रहे 100 साल, शताब्दी महोत्सव में शिरकत कर सकते हैं PM मोदी

यहां पीएम मोदी करीब 20 हजार से ज्यादा लाभार्थियों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान हासिल करने वालों को चाबियां सौंपेंगे. बताया जा रहा है कि ये ई-गृहप्रवेश कार्यक्रम होगा. 

साईं बाबा की समाधि को हो रहे 100 साल, शताब्दी महोत्सव में शिरकत कर सकते हैं PM मोदी
इस खास मौके पर पूरे शिरडी मंदिर की मनमोहक सजावट की गई है. (फाइल फोटो)
Play

मुंबई: साईं बाबा की समाधि के 100 साल पूरे हो रहे हैं. इस मौके पर शिरडी में तीन दिनों का शताब्दी समारोह मनाया जा रहा है. लोगों को प्रेम और भाईचारे का फलसफा सिखाने वाले साईं बाबा के भक्त दुनिया के कोने-कोने से शिरडी पहुंच रहे हैं. जानकारी के मुताबिक, इस साल खास मौके पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शिरडी में होने वाले भव्य आयोजन में शिरकत कर सकते हैं. इस आयोजन के लेकर भक्तों की बढ़ती की भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने खास इंतजाम किया है. 

दशहरे के दिन ली थी समाधि
15 अक्टूबर 1918 को बाबा ने शिरडी में समाधि ली थी, उस दिन दशहरा था. तब से ही हर साल दशहरे के दिन शिरडी में विशेष आयोजन होता है. अनुमान है कि इस बार समाधि शताब्दी महोत्सव के मौके पर सिर्फ दशहरे के दिन तकरीबन 300000 साईं भक्त बाबा के दर्शन लेने के लिए शिरडी पहुंच सकते हैं. 

वोटर लिस्'€à¤Ÿ में साईं बाबा का नाम-पता किया शामिल, ऑनलाइन फॉर्म की जांच के दौरान मामला सामने आया

पीएम मोदी भी करेंगे दर्शन
इस खास मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी भी शिरकत कर सकते हैं. प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी का शिरडी में पहला दौरा है, जो कई मायनों में बहुत खास है. इसे पहले साल 2008 में गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए उन्होंने शिरडी में आकर बाबा के दर्शन किए थे. 19 अक्टूबर को नरेंद्र मोदी दोपहर को शिरडी पहुंचेंगे और तकरीबन 2 से 3 घंटे शिरडी में रहेंगे. हालांकि, नरेंद्र मोदी के शैड्यूल के बारे में आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है. 

सुरक्षा चाक-चौबंद
सुरक्षा के भी चाक-चौबंद इंतजाम किए गए. जानकारी के मुताबिक, प्रधानमंत्री की सिक्योरिटी के लिए बम स्क्वाड डॉग स्क्वाड अहमदनगर पुलिस के अलावा दूसरे जिलों से भी पुलिस बल मंगाया गया है. ड्रोन कैमरे से शिरडी शहर पर नजर रखी जाएगी. मंदिर प्रशासन की तरफ से भी मंदिर परिसर में ज्यादा से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं, जिन्हें एक सेंट्रलाइज कंट्रोल रूम से मॉनिटर किया जाएगा.

हर साल बढ़ रही है साईं मंदिर में आने वाली दान की रकम, पिछले साल आए थे 347 करोड़

पीएम देंगे शिरडी वालों को तोहफा
बताया जा रहा है कि पीएम मोदी शिरडी परिसर में एक भूमि पूजन का कार्यक्रम है. इसके बाद वह शिरडी मंदिर के पास के एक मैदान में नरेंद्र मोदी एक सभा को संबोधित करेंगे. यहां पीएम मोदी करीब 20 हजार से ज्यादा लाभार्थियों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान हासिल करने वालों को चाबियां सौंपेंगे. बताया जा रहा है कि ये ई-गृहप्रवेश कार्यक्रम होगा. इस दौरान राज्य के मुख्यमंत्री और दूसरे कई मंत्री उपस्थित होंगे.

8 टन फूलों से सजा शिरडी मंदिर
इस खास मौके पर पूरे शिरडी मंदिर की मनमोहक सजावट की गई है. मंदिर को फूलों, फलो और जगमग रोशनी से सजाया गया है. मंदिर की सजावट इतनी खूबसूरत है कि इससे पहले साईं भक्तों ने मंदिर को इस रुप में पहले कभी नहीं देखा होगा. जानकारी के मुताबिक, करीब 3 लाख 50 हजार रुपये इस सजावट के लिए खर्च किए गए हैं, जिसके लिए तकरीबन 8 टन फूलों का इस्तेमाल किया है.

शिरडी में साईं बाबा भक्त ने चढ़ाई 35 लाख की पंचमुखी आरती

सभी होटल हुए हाउसफुल
गुरुवार को दशहरे के शुभ अवसर पर बाबा के दर्शन लेने के लिए सिर्फ देश नहीं बल्कि विदेश से भी बाबा के भक्त उनकी एक झलक पाने के लिए शिरडी पहुंच रहे हैं. अमेरिका और यूरोप से भी साईं बाबा के दर्शन के लिए भक्त उनके दरबार आ रहे हैं. आलम ये है कि शिरडी संस्था के तकरीबन 1500 कमरे पहले ही बुक हो चुके हैं साथ ही 750 प्राइवेट होटल के भी सभी कमरे हाउसफुल हो चुके हैं. 

करोड़ों का चढ़ता है चढ़ावा
साल 1922 में शिरडी मंदिर को ट्रस्ट के रूप में रजिस्टर किया गया. तब दान पेटी से इकट्ठा होने वाली सालाना आय तकरीबन 700 रुपये थी जबकि, इसका सालाना बजट तकरीबन 3500 रुपए हुआ करता था. बाबा के भक्तों की संख्या बढ़ने के साथ-साथ साईं मंदिर ट्रस्ट की आमदनी में भी लाखों गुना इजाफा हुआ और अब मंदिर ट्रस्ट की चढ़ावे से होने वाली आमदनी तकरीबन 375 करोड़ बताई जाती है. जो कि प्रतिदिन के हिसाब से एक करोड़ रुपए से ज्यादा की है.  

sai baba samadhi is completed 100 years PM modi may be visit shirdi

फूलों से बनाई जाती हैं खास अगरबत्ती
साईं दरबार में इस्तेमाल किए जाने वाले फूलों को बाद में फेंका नहीं जाता है बल्कि एक खास प्लांट में इनसे सुगंधित अगरबत्ती तैयार की जाती है. करीब 40,000 महिलाओं को इससे रोजगार प्राप्त हो रहा है.