close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चुनाव हारने के बाद सलमान खुर्शीद ने कहा- सही हाथ में कांग्रेस पार्टी, हालत सुधरने में लग सकते हैं 10 साल

पूर्व विदेश मंत्री ने यह भी कहा कि हाल के लोकसभा चुनाव में किये गए खराब प्रदर्शन से उबरने में पार्टी को लंबा वक्त लगेगा और उसमें दस साल भी लग सकते हैं. 

चुनाव हारने के बाद सलमान खुर्शीद ने कहा- सही हाथ में कांग्रेस पार्टी, हालत सुधरने में लग सकते हैं 10 साल
.(फाइल फोटो)

हैदराबाद: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने सोमवार को कहा कि नेहरू-गांधी परिवार कांग्रेस के लिए सबसे अधिक वोट जुटाने वाला है और इस मुश्किल दौर में संगठन में नेतृत्व परिवर्तन ‘नासमझी और कृतघ्नता’ होगी. पूर्व विदेश मंत्री ने यह भी कहा कि हाल के लोकसभा चुनाव में किये गए खराब प्रदर्शन से उबरने में पार्टी को लंबा वक्त लगेगा और उसमें दस साल भी लग सकते हैं. खुर्शीद ने कहा कि यह एक तथ्य है कि नेहरू-गांधी परिवार पार्टी के लिए एक जोड़ने वाली ताकत है- जब वह सामने से अगुवाई कर रही थी और तब भी जब पार्टी कमान उसके हाथ में नहीं थी.

उन्होंने एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘ हमारे तमाम खामियां उजागर करने के बाद भी (नरेंद्र) मोदी को जिस तरह का समर्थन मिला है यह एक तथ्य है, उसी तरह यह भी एक तथ्य है कि वह (नेहरू-गांधी परिवार) हमें एकजुट रखता है और यह भी कि वह सबसे अधिक वोट दिलाने वाला परिवार है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ अब, भले ही वह यह चुनाव जीतने के लिए पर्याप्त वोट नहीं दिलवा पाए हों, लेकिन वह पार्टी के लिए सबसे अधिक वोट दिलाने वाला परिवार है.’’

खुर्शीद का बयान इन खबरों के बीच आया है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी चुनाव में पार्टी की करारी हार के बाद अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की अपनी पेशकश पर अडिग हैं और वह यह भी नहीं चाहते हैं कि गांधी परिवार का कोई अन्य सदस्य उनका उत्तराधिकारी बने.

एक प्रकार से वह पार्टी अध्यक्ष के रूप में अपनी जगह बहन प्रियंका वाड्रा को भी नहीं चाहते हैं. खुर्शीद इस बात से सहमत दिखे कि पार्टी को प्रियंका गांधी से काफी उम्मीदें थीं जो चुनाव से पहले सक्रिय राजनीति में उतरीं तथा पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रभारी महासचिव के तौर पर उन्होंने सघन प्रचार किया. उन्होंने कहा, ‘‘ कोई नहीं कह रहा है कि वह योगदान नहीं कर सकती हैं या फिर उन्होंने योगदान नहीं किया है.

ऐसी बातें कोई नहीं कह रहा है. अपेक्षाएं तो बनी हुई हैं. यह कि एक के बाद एक कर करारी हार के बाद भी प्रियंका गांधी और राहुल गांधी के पार्टी का समर्थन बना हुआ है और यह कोई छोटी बात नहीं है.’’ उन्होंने कहा कि जिस तरह मोदी में भाजपा कार्यकर्ताओं के लिए कुछ खास बात है, उसी तरह नेहरू गांधी परिवार में भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए विशेष बात है. उन्होंने कहा कि उनके समेत सभी पार्टी कार्यकर्ता नेहरू गांधी परिवार के साथ खड़े हैं.