close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अनुच्छेद 370 को लेकर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद की याचिका पर SC में सुनवाई कल

Jammu and Kashmir में अनुच्छेद 370 हटाने के बाद लगी पाबंदियों के खिलाफ दायर याचिकाओं पर भी सुनवाई होगी.

अनुच्छेद 370 को लेकर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद की याचिका पर SC में सुनवाई कल
कश्मीर के हालात पर अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि एक-एक कर पाबंदिया हटाई जा रही हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: जम्‍मू और कश्‍मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के खिलाफ कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और अन्य की ओर से दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सोमवार को सुनवाई करेगा. इससे पहले अनुच्छेद 370 के खिलाफ दायर याचिकाओं को सुप्रीम कोर्ट ने संविधान पीठ के पास भेज दिया था. कोर्ट ने कहा था कि अक्टूबर में संविधान पीठ इस मामले की सुनवाई करेगी. इसके अलावा, अनुच्छेद 370 हटाने के बाद लगी पाबंदियों के खिलाफ दायर याचिकाओं पर भी सुनवाई होगी.

पिछली सुनवाई में कश्मीर टाइम्स की संपादक की शिकायत थी कि श्रीनगर से उनका अखबार प्रकाशित नहीं हो रहा है. सरकार ने कहा था कि बाकी अखबार छप रहे हैं और ये जानबूझकर नहीं छाप रहे हैं. कश्मीर के हालात पर अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि एक-एक कर पाबंदिया हटाई जा रही हैं. 80 फीसदी लैंडलाइन चालू किए जा चुके हैं.

वहीं, इलाज में दिक्कत की शिकायत झूठी है. इस दौरान, 4 हज़ार से ज़्यादा लोगों की बड़ी सर्जरी हुई है. 40 हज़ार से ज़्यादा छोटी सर्जरी हुई. आपको बता दें कि राष्ट्रपति ने आदेश जारी कर जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाला प्रावधान अनुच्छेद 370 समाप्त कर दिया था. इतना ही नहीं, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया गया है. 

यह भी पढ़ें: राम मंदिर के पक्ष में आएगा फैसला, नवंबर के बाद शुरू होगा मंदिर निर्माण: सुब्रमण्‍यम स्‍वामी

LIVE TV...

यह भी पढ़ें: सुन्नी वक्फ बोर्ड की अपील - निर्मोही अखाड़े ने सिर्फ प्रबंधन का अधिकार मांगा है, मालिकाना हक नहीं

अनुच्छेद 370 खत्म करने का प्रस्ताव संसद के दोनों सदनों से भारी बहुमत से पास हुआ था और उसके बाद राष्ट्रपति ने आदेश जारी किया था. जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 समाप्त होने के बाद सुरक्षा के लिहाज से एहतियात के तौर पर कुछ कदम उठाए गए थे.