कोरोना संक्रमण के बीच देश में आज से खुल जाएंगे स्कूल, इन नियमों का करना होगा पालन

देश में कोरोना संक्रमण (Corona transition) के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच जाने के बीच गुरुवार से अनलॉक- 5 नियमावली के तहत स्कूल खुल (Schools Open) जाएंगे. सरकार के फैसले के बावजूद पैरेंट्स में अपने बच्चों को स्कूल भेजने के प्रति चिंता पसरी हुई है.

कोरोना संक्रमण के बीच देश में आज से खुल जाएंगे स्कूल, इन नियमों का करना होगा पालन
फाइल फोटो

नई दिल्ली: देश में कोरोना संक्रमण (Corona transition) के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच जाने के बीच गुरुवार से अनलॉक- 5 नियमावली के तहत स्कूल खुल (Schools Open) जाएंगे. सरकार के फैसले के बावजूद पैरेंट्स में अपने बच्चों को स्कूल भेजने के प्रति चिंता पसरी हुई है. इसे देखते हुए कई राज्यों ने स्कूल खोलने की तारीख को आगे खिसका दिया है. वहीं कईयों ने कक्षाओं के शुरू होने की तारीख में बदलाव किया है.

इन राज्यों में गुरुवार से खुल जाएंगे स्कूल
मेघालय सरकार ने गुरुवार से कक्षा 6 से 9-10 तक के बच्चों के लिए स्कूल खोलने की घोषणा की है. इस दौरान स्टूडेंट्स केवल कंसल्‍टेशन के लिए स्कूल जा सकेंगे. बिहार में गुरुवार से स्कूल खुल जाएंगे. नोएडा-गाजियाबाद समेत यूपी के बाकी सभी हिस्सों में 19 अक्टूबर से स्कूल खुलेंगे. उनमें भी केवल 9वीं से 12 वीं तक के बच्चे ही पढ़ने के लिए स्कूल जा सकेंगे.

इन राज्यों में फिलहाल स्कूल बंद रहेंगे
दिल्ली में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. इसे देखते हुए दिल्ली सरकार ने फिलहाल स्कूल खोलने की अनुमति नहीं दी है. छत्‍तीसगढ़ सरकार ने कोरोना के मामले बढ़ते देख फिलहाल स्‍कूल न खोलने का फैसला लिया है. आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री वाईएस जगन रेड्डी ने राज्‍य में 2 नवंबर से स्कूल खोलने की घोषणा की है. झारखंड सरकार ने हालात का जायजा लेने के बाद स्कूलों को 31 अक्टूबर तक न खोलने का फैसला किया है. पश्च‍िम बंगाल में भी गुरुवार से स्कूल नहीं खुलेंगे. 

ये भी पढ़ें- पंजाब सरकार का बड़ा फैसला, सरकारी नौकरियों में 33% महिला आरक्षण को मंजूरी

स्कूलों में इन नियमों का करना होगा पालन 
अनलॉक-5 नियमों के तहत जिन राज्यों में गुरुवार से स्कूल खुल जाएंगे. उन स्कूलों को रोज कक्षाओं का सैनिटाइजेशन करवाना होगा. प्रत्येक कक्षा में एक दिन में केवल 50 फीसदी बच्चे ही बैठेंगे. सभी बच्चों को मास्क लगाकर और हैंड सैनिटाइजर लेकर स्कूल आना होगा. जो बच्चे स्कूल में पढ़ने आएंगे, उन्हें अपने पैरंट्स का लिखित सहमति पत्र जमा करवाना होगा. यदि कोई बच्चा रेग्युलर स्कूल नहीं आना चाहेगा तो स्कूल को उसके लिए ऑनलाइन कक्षा की व्यवस्था करनी होगी. 

Video-