close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुरक्षाकर्मियों को मिलेगी अब पहले से हल्की और स्वदेशी बुलेटप्रूफ जैकेट

 'मेक इन इंडिया' पहल के तहत देश की सरकारी और निजी कंपनियां पहली बार देश में बीआईएस के अनुसार बुलेटप्रूफ जैकेट बना रही हैं.

सुरक्षाकर्मियों को मिलेगी अब पहले से हल्की और स्वदेशी बुलेटप्रूफ जैकेट
(फाइल फोटो )

नई दिल्ली: सुरक्षाबलों को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने एक पहल कि है जिसके तहत देश के सैनिकों और पुलिसकर्मियों को अब पहले से हल्की स्वदेश निर्मित बुलेटप्रूफ जैकेट मिलेगी. यह जैकेट एके-47 जैसी असॉल्ट राइफल के हमलों से सुरक्षाकर्मियों की रक्षा करने में पूरी तरह से सक्षम है. 'मेक इन इंडिया' (Make in India) पहल के तहत देश की सरकारी और निजी कंपनियां पहली बार देश में भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) के अनुसार बुलेटप्रूफ जैकेट बना रही हैं.

बीआईएस (Bureau of Indian Standards)  के अधिकारिक सूत्र ने बताया कि उत्तर प्रदेश के कानपुर और तमिलनाडु के अवाडी स्थित फैक्ट्रियों में यह बुलेटप्रूफ जैकेट (bulletproof jacket) बनाई जा रही हैं.

मिश्रित धातु का उपयोग
पहले बुलेटप्रूफ जैकेट में लोहे का उपयोग होता था, जिसके कारण इस का भार 20 किलोग्राम तक का होता था, लेकिन बीआईएस मानक के आधार पर बनाई जा रही इन बुलेटप्रूफ जैकेट में उच्च गुणवत्ता के मिश्रित धातु का उपयोग किया गया है, इसलिए यह पहले से हल्की और वजन में 10 किलोग्राम तक है.इसमें लोड डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम (हथियार से जुड़े सामान और गोलियों को रखने की जगह) भी लगाया गया है.

गौरतलब है कि पहले बुलेटप्रूफ जैकेट के लिए कोई मानक नहीं होने के कारण देश के सुरक्षाबलों के लिए विदेशों से भी बुलेटप्रूफ जैकेट खरीदना मुश्किल होता था. लेकिन अब बीआईएस मानकों के आधार पर बनाए जा रहे यह बुलेटप्रूफ जैकेट, भारत दुनिया के सौ से अधिक देशों को निर्यात करने लगा है.