close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्‍ली के स्‍पा सेंटरों में चल रहा था सेक्‍स रैकेट, कार्रवाई न होने पर DCW ने MCD को भेजा सम्‍मन

निरीक्षण के दौरान स्‍पा सेंटरों से बड़ी संख्‍या में कंडोम और अश्‍लील मेन्‍यू भी बरामद किए गए थे. इस मामले में दिल्‍ली महिला आयोग ने दिल्‍ली में 4 एफआईआर भी दर्ज कराई थीं.

दिल्‍ली के स्‍पा सेंटरों में चल रहा था सेक्‍स रैकेट, कार्रवाई न होने पर DCW ने MCD को भेजा सम्‍मन
दिल्ली महिला आयोग कि अध्यक्षा ने नाराजगी जताते हुए एमसीडी को आड़े हाथों लिया है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा ने दिल्ली के स्पा सेंटरों में चल रहे सेक्स रैकेट पर कार्रवाही करने के मामले में एमसीडी और दिल्ली बीजेपी पर कड़ा रुख़ अपनाया है. दिल्ली महिला आयोग ने पिछले कुछ दिनों में सघन रूप से दिल्ली के विभिन्‍न स्पा सेंटरों का निरीक्षण किया था. निरीक्षण के दौरान, न केवल बड़े सेक्स रैकेट का पर्दाफाश हुआ था, बल्कि कई लड़कियों को बचाया गया था. निरीक्षण के दौरान स्‍पा सेंटरों से बड़ी संख्‍या में कंडोम और अश्‍लील मेन्‍यू भी बरामद किए गए थे. इस मामले में दिल्‍ली महिला आयोग ने दिल्‍ली में 4 एफआईआर भी दर्ज कराई थीं. 

उल्‍लेखनीय है कि इस मामले में दिल्ली महिला आयोग ने 9 सितंबर को एमसीडी के वरिष्ठ अधिकारियों और दिल्ली पुलिस के अधिकारियों को तलब कर कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी थी. एमसीडी के वरिष्ठ अधिकारी आयोग के समक्ष उपस्थित हुए और उन्होंने आयोग को दिल्ली में चलाए जा रहे स्पा की सूची प्रदान की. दावा है कि बैठक के दौरान यह स्वीकार किया कि स्पा सेंटरों में वेश्यावृत्ति के रैकेट चल रहे हैं और उसकी जांच होनी चाहिए. उन्होंने स्वीकार किया कि लड़कों की मसाज लड़कियों द्वारा नहीं की जानी चाहिए और उनकी लाइसेंस प्रक्रिया में कई समस्याएं हैं. 

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान ने दिखा ही दिया अपना रंग, PM मोदी की फ्लाइट को रास्ता देने से किया इनकार

उदाहरण के लिए, यदि किसी स्पा का लाइसेंस रद्द हो जाता है, तो स्पा मालिक आमतौर पर स्पा का नाम बदल देता है और उसी के लिए ऑनलाइन लाइसेंस प्राप्त करता है. मीटिंग में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने स्पा सेंटरों के नाम पर चलाए जा रहे वेश्यावृत्ति रैकेटों पर नाराजगी जताई. उन्होंने कहा कि एमसीडी को अपनी कार्यप्रणाली को सुधारना चाहिए और स्पा चलाने वाले सेक्स रैकेट के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए. उन्‍होंने एमसीडी को निर्देश दिया था कि स्पा में सेक्स रैकेट को तुरंत बंद किया जाए. 

LIVE TV...

यह भी पढ़ें: भारतीयों को सेना पर है सबसे ज्यादा भरोसा, राजनेताओं पर नहीं है विश्वास : सर्वे

बैठक में यह निर्णय लिया गया था कि तीनों नगर निगम उचित कदम उठाएंगे और अपने लाइसेंसिंग प्रक्रिया में बदलाव कर यह सुनिश्चित करेंगे कि स्पा और मसाज सेंटर में सेक्स रैकेट न चलें. वर्तमान में नगर निगम द्वारा बिना किसी ठोस जांच के ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से स्पा चलाने के लिए लाइसेंस दिया जा रहा है. आयोग ने एमसीडी से कहा कि पुलिस आयुक्त द्वारा एनओसी देने के बाद उचित मानवीय जांच के बाद ही लाइसेंस जारी किया जाए. इसके अलावा, क्रॉस-जेंडर मसाज के साथ-साथ अन्दर से बंद कुण्डी वाले कमरों में मालिश पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जाए और इसे लाइसेंस देने के लिए प्राथमिक शर्त के रूप में शामिल किया जाए. 

यह भी पढ़ें: अयोध्या केस: जमीयत उलेमा की सुन्नी वक्फ बोर्ड से सौदेबाजी नहीं करने की अपील

उन्‍होंने यह भी निर्देश दिए थे कि स्पा का समय केवल सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक रखा जाए और स्पा में आने वाले सभी ग्राहकों के आईडी प्रूफ लिए जाएं. मीडिया में प्रकाशित खबरों के अनुसार दिल्ली महिला आयोग कि कार्रवाई के बाद, साउथ एमसीडी ने स्पा सेंटर पर एक एडवाइजरी जारी की थी, जिसमें इनमें से कुछ बिंदु शामिल किया गया था. इसी बीच, अचानक कुछ नेताओं के हस्तक्षेप के बाद दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ने इस एडवाइजरी को लागू नही किया. जिस पर दिल्ली महिला आयोग कि अध्यक्षा ने नाराजगी जताई और एमसीडी को आड़े हाथों लिया. उन्होंने पूछा है कि ऐसे कौन लोग हैं, जो स्पा रुपी सेक्स रैकेट पर कार्यवाही नहीं होने देना चाहते हैं.