Breaking News
  • कोरोना से मृत्यु दर 1% से कम करने का लक्ष्य: PM मोदी
  • आरोग्य सेतु ऐप के जरिए संक्रमित लोगों के करीब पहुंच सकते हैं: PM मोदी
  • 72 घंटे में संक्रमण की जानकारी से खतरा कम: PM मोदी
  • देश में फिलहाल हर रोज 7 लाख टेस्टिंग: PM मोदी

शाहिद अफरीदी को गौतम गंभीर का करारा जवाब, 'नो बॉल पर विकेट लेने का जश्न मना रहे हैं'

शाहिद अफरीदी ने अपने ट्वीट में कहा "कश्मीर में हालत चिंताजनक हैं. आत्मनिर्णय और आजादी की आवाज को दबाने के लिए निर्दोषों को मारा जा रहा है. 

शाहिद अफरीदी को गौतम गंभीर का करारा जवाब, 'नो बॉल पर विकेट लेने का जश्न मना रहे हैं'
गौतम गंभीर ने अफरीदी के ट्वीट पर उन्हें करारा जवाब दिया है

नई दिल्ली : पाकिस्तान किक्रेट के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने भारत को लेकर एक विवादित बयान दिया था. उन्होंने अपने एक ट्वीट में कश्मीर में मारे जा रहे आंतकियों को निर्दोष बताया था. उन्होंने कहा था कि कश्मीर में आजादी की लड़ाई लड़ने वालों को मारा जा रहा है. उनके इस ट्वीट का भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर ने करारा जवाब दिया है. गंभीर ने कहा कि अफरीदी की बात को गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं है, क्योंकि वे नो बॉल पर विकेट लेने का जश्न मना रहे हैं. 

बता दें कि शाहिद अफरीदी ने अपने ट्वीट में कहा "कश्मीर में हालत चिंताजनक हैं. आत्मनिर्णय और आजादी की आवाज को दबाने के लिए निर्दोषों को मारा जा रहा है. आश्चर्य है कि इसको रोकने के लिए यूएन और अन्य संगठन कोई कदम नहीं उठा रहे हैं."

अफरीदी के इस ट्वीट की सोशल मीडिया पर खूब आलोचना हो रही है. खुद कई पाकिस्तानी यूजर ने अफरीदी को सलाह दी है कि वे खेल में राजनीति को शामिल ना करें. उनके इस ट्वीट का जवाब देने के लिए भारत के पूर्व ओपनर गौतम गंभीर ने मोर्चा संभाला है. उन्होंने अफरीदी को ऐसा करारा जवाब दिया कि उनकी बोलती बंद कर दी.

गौतम का गंभीर जवाब
गंभीर ने अपने ट्वीट में कहा, 'मीडिया मुझसे शाहिद अफरीदी के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देने के लिए कह रही है. क्या कहूं? अफरीदी केवल UN की तरफ देख रहे हैं. उनके शब्दों में यूएन का मतलब 'अंडर नाइनटीन' है, जो उनकी एज ब्रैकेट है। मीडिया अफरीदी को गंभीरता से ना ले, वह नो बॉल पर विकेट लेने का जश्न मना रहे हैं.'

13 आतंकी ढेर
बता दें कि बीते रविवार को सेना ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए घाटी में 13 आतंकियों को मार गिराया था. शोपियां से मारे गए 10 आतंकवादियों में सबसे उम्रदराज इशफाक अहमद ठोकर ऊर्फ अबरार था. वह सितंबर 2015 में आतंकवादी बना था. उसके अलावा मारे गए अन्य आतंकियों में उबैद शफी माल्ला ऊर्फ अबु हुरैरा फरवरी 2017 में आतंकवादी बना, जुबेर अहमद तुर्रे ऊर्फ अबु बकर, नाजिम अहमद डार ऊर्फ फुरकान भाई और रईस अहमद ठोकर मई 2017 में आतंकी गतिविधियों में शामिल हुए.