महाराष्ट्र: सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले शरद पवार, 'हम सबके साथ हैं...'

एनसीपी प्रमुख ने कहा कि उन्होंने सोनिया गांधी को महाराष्ट्र के राजनीतिक हालात के बारे में विस्तार से बताया. इस मुलाकात के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एके एंटेनी भी मौजूद रहे. पवार ने कहा कि आगे की रणनीति पर दोनों दलों के नेता आपसी बातचीत में तय करेंगे.

महाराष्ट्र: सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले शरद पवार, 'हम सबके साथ हैं...'
एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की.

नई दिल्ली: महाराष्ट्र के मौजूदा राजनीतिक हालात पर एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) और कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia gandhi) के बीच दिल्ली में मुलाकात हुई. इस मुलाकात के बाद एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने कहा कि सोनिया गांधी (Sonia gandhi) ने महाराष्ट्र के राजनीतिक स्थिति पर बातचीत कीं. पवार ने स्पष्ट किया कि सोनिया गांधी (Sonia gandhi) के साथ महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर कोई बातचीत नहीं हुई. सरकार बनाने को लेकर कांग्रेस और एनसीपी के प्रतिनिधमंडल में शामिल नेता बातचीत करेंगे.

एनसीपी प्रमुख ने कहा कि उन्होंने सोनिया गांधी (Sonia gandhi) को महाराष्ट्र के राजनीतिक हालात के बारे में विस्तार से बताया. इस मुलाकात के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एके एंटेनी भी मौजूद रहे. पवार ने कहा कि आगे की रणनीति पर दोनों दलों के नेता आपसी बातचीत में तय करेंगे.

एनसीपी प्रमुख से जब पूछा गया कि वह किसके साथ हैं, इसपर उन्होंने बेहद गोलमोल जवाब दिया कि वह सबके साथ हैं. पवार के इस बयान के कई मायने निकाले जा रहे हैं.

शरद पवार (Sharad Pawar) ने कहा, 'किसी के साथ जाने या ना जाने पर कोई बात नहीं हुई. हमें अपनी साथी दलों से भी बात करनी होगी. मुझे नहीं पता की शिवसेना के पास कितने विधायक हैं. उनसे पूछिए, हम तो सबके साथ हैं. हमारी पार्टी की नीति सिर्फ हम ही तय करेंगे. किसके साथ जाना है यह सिर्फ हम तय करेंगे.'

पीएम मोदी की ओर से राज्यसभा में एनसीपी की तारीफ किए जाने पर शरद पवार (Sharad Pawar) ने कहा, 'सदन की डिग्निटी (गौरव) का ख्याल रखना ज़रूरी है. यही हमारी नीति है. हमने भाजपा के खिलाफ ही चुनाव लड़ा.'

पवार ने कहा, 'कॉमन मिनिमम प्रोग्राम और बाकी छोटे दलों के लिए कहा गया था. शिवसेना अपने फैसले खुद ले रही है. हमारे तो बस 54 एमएलए वाली पार्टी है, हम क्या पत्ते खोलेंगे. अभी बस हम और कांग्रेस एक साथ हैं और कोई नहीं.'

उन्होंने कहा कि सरकार बनाने को लेकर सोनिया गांधी (Sonia gandhi) से कोई बात नहीं हुई. सिर्फ एनसीपी और कांग्रेस पर चर्चा हुई. छोटे सहयोगी दलों से भी चर्चा करेंगे ऐसा तय हुआ है. और व्यापक चर्चा करके निर्णय लेंगे.

यहां आपको बता दें कि सोमवार को ही राज्यसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) की तारीफ की, जिसके बाद से नए राजनीतिक समीकरण बनने की अटकलें चल रही हैं.

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के 23 अक्टूबर को नतीजे आए थे, जिसमे बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को बहुमत मिला था. हालांकि शिवसेना ने बीजेपी के सामने ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद की डिमांड रख दी, जिसके चलते सरकार नहीं बन पाई है. शिवसेना एनसीपी और कांग्रेस का साथ लेकर सरकार बनाने की कोशिश कर रही है. फिलहाल महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू है.

ये भी देखें-: