महाराष्‍ट्र के सियासी संकट के बीच PM मोदी से मिले पवार, वित्‍त मंत्री को भी बुलाया गया

मीटिंग के बाद शरद पवार ने कहा कि महाराष्‍ट्र के किसानों के मुद्दे पर प्रधानमंत्री से चर्चा हुई. महाराष्‍ट्र के किसानों को केंद्र से मदद मिलनी चाहिए.

महाराष्‍ट्र के सियासी संकट के बीच PM मोदी से मिले पवार, वित्‍त मंत्री को भी बुलाया गया

नई दिल्‍ली: महाराष्‍ट्र में सियासी गतिरोध और शिवसेना के एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने की अटकलों के बीच शरद पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. बैठक के बीच में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को बुलाया गया. कयास लगाए जा रहे हैं कि महाराष्ट्र के किसानों के लिए किसी पैकेज का ऐलान हो. मीटिंग के बाद शरद पवार ने कहा कि महाराष्‍ट्र के किसानों के मुद्दे पर प्रधानमंत्री से चर्चा हुई. महाराष्‍ट्र के किसानों को केंद्र से मदद मिलनी चाहिए. शरद पवार ने प्रधानमंत्री मोदी को 30 नवंबर को वसंत दादा शुगर मिल के एक कार्यक्रम के लिए भी निमंत्रण दिया है.

बता दें कि हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने NCP की तारीफ की थी. पीएम नरेंद्र मोदी ने संसद के शीतकालीन सत्र में शरद पवार (Sharad Pawar) की पार्टी NCP की तारीफ की थी. उन्‍होंने संसद में विरोध जताने के लिए सदस्‍यों द्वारा वेल में आकर नारेबाजी करने के चलन की ओर ध्यान दिलाते हुए कहा था कि बीजेपी समेत सभी राजनीतिक दलों को बीजू जनता दल (BJD) और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) से सीख लेनी चाहिए. 

LIVE TV

प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यसभा के 250वें सत्र के अवसर पर 'भारतीय राजनीति में राज्यसभा की भूमिका... आगे का मार्ग' विषय पर हुई विशेष चर्चा में भाग लेते हुए यह बात कही थी. उन्‍होंने कहा कि कहा कि एनसीपी और बीजद ने खुद ही तय किया कि वे आसन के समक्ष नहीं आएंगे. इस तरह पीएम मोदी ने दोनों दलों की सराहना करते हुए कहा कि एनसीपी और बीजद के सदस्य आसन के समक्ष नहीं आते. उन्होंने कहा कि दोनों दलों ने खुद ही तय किया है कि उनके सदस्य आसन के समक्ष नहीं आएंगे. उनके सदस्यों ने इस नियम का पालन भी किया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दोनों पार्टियों की मिसाल देते हुए कहा था, 'बीजेपी और अन्य दलों को भी इससे सीख लेनी चाहिए.'