close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Zee Jaankari: जलवायु परिवर्तन पर 16 साल की लड़की ने दुनिया के नेताओं को कोसा

जलवायु परिवर्तन पर कल 16 साल की एक लड़की ने दुनियाभर के नेताओं को अपने सवालों से सोचने पर मजबूर ​कर दिया. स्वीडन की रहने वाली पर्यावरण कार्यकर्ता Greta Thunberg (ग्रेटा थनबर्ग) ने जब बोलना शुरू किया, तो शायद वहां मौजूद नेताओं को अंदाजा नहीं था... 

Zee Jaankari: जलवायु परिवर्तन पर 16 साल की लड़की ने दुनिया के नेताओं को कोसा

हमारा अगला विश्लेषण पृथ्वी की सेहत से जुड़ा हुआ है .Climate Change यानी जलवायु परिवर्तन आज पूरी दुनिया में बहुत बड़ा मुद्दा है .जलवायु परिवर्तन की वजह से आने वाले समय में दुनिया को विनाशकारी संकटों का सामना करना पड़ सकता है .इसलिए आज दुनिया के ज्यादातर देश एकजुट होकर जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल दुनिया को जलवायु परिवर्तन पर एक व्यवहारिक दृष्टिकोण दिया .संयुक्त राष्ट्र में Climate Change पर आयोजित एक विशेष सत्र में बोलते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि जलवायु परिवर्तन पर अब बात नहीं...काम करने की ज़रुरत है...

और ये पूरी दुनिया के लिए गंभीर मुद्दा है. इस Summit में जब प्रधानमंत्री मोदी बोल रहे थे, तो उनका भाषण सुनने के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति Donald Trump भी पहुंच गए .ट्रंप ने इस Summit में अपनी मौजूदगी से सभी को आश्चर्यचकित कर दिया.... क्योंकि Trump की इस कार्यक्रम में पहुंचने की कोई योजना नहीं थी .इस Summit के दौरान राष्ट्रपति Trump ने जलवायु परिवर्तन पर प्रधानमंत्री मोदी का भाषण ध्यान से सुना और तालियां भी बजाई .

ट्रंप इस कार्यक्रम में 15 मिनट मौजूद रहे .नरेंद्र मोदी के बाद उन्होंने जर्मनी की चांसलर Angela Merkel के भाषण को भी सुना. यानी जलवायु परिवर्तन पर प्रधानमंत्री मोदी जैसे बड़े नेताओं की बातें सुनकर शायद Donald Trump का भी हृदय परिवर्तन हो गया है .ट्रंप ने कई वर्षों से Climate Change से जुड़े किसी कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लिया है .

इस बार भी Trump ने साफ कर दिया था कि उनकी जलवायु परिवर्तन से जुड़े किसी कार्यक्रम में शामिल होने की कोई योजना नहीं है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के Climate change पर दिए गए भाषण के बाद अब पूरी दुनिया जानना चाहती है कि भारत सरकार जलवायु परिवर्तन पर क्या योजना बना रही है .New York में मौजूद हमारी सहयोगी पलकी शर्मा उपाध्याय ने इस बारे में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से विशेष बातचीत की .

आज आपको जलवायु परिवर्तन पर New York में मौजूद Team India के विचार ज़रूर सुनने चाहिए. जलवायु परिवर्तन पर कल 16 साल की एक लड़की ने दुनियाभर के नेताओं को अपने सवालों से सोचने पर मजबूर ​कर दिया. स्वीडन की रहने वाली पर्यावरण कार्यकर्ता Greta Thunberg (ग्रेटा थनबर्ग) ने जब बोलना शुरू किया, तो शायद वहां मौजूद नेताओं को अंदाजा नहीं था...

कि इस लड़की के सवाल हैरान करने वाले होंगे .आंखों में आंसू और चेहरे पर गुस्से के भाव के साथ Greta ने जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर दुनिया भर के नेताओं से कहा... How Dare You यानी आपकी हिम्मत कैसे हुई .Greta यहां पर उन झूठे वादों की बात कर रही थीं, जो दुनिया भर के नेता जलवायु परिवर्तन से लड़ने को लेकर करते आए हैं .

पहले आप 16 साल की इस लड़की के गुस्से का ज्वालामुखी देखिए...फिर हम अपने विश्लेषण को आगे बढ़ाएंगे . Greta अमेरिका से लेकर London तक लोगों को जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर जागरुक करने का काम करती हैं .उनका School Strike For Climate कैंपेन पूरी दुनिया में मशहूर है .20 अगस्त 2018 को Greta ने इस कैंपेन की शुरुआत करते हुए हर शुक्रवार को स्कूल जाना छोड़ दिया था .

वो हर Friday स्वीडन की संसद के बाहर प्रदर्शन करती हैं .और सांसदों के अलावा वहां से गुजरने वाले लोगों से दुनिया को बचाने की अपील करती हैं. नवंबर 2018 में उनके अभियान में 24 देशों के लगभग 17 हजार छात्रों ने हिस्सा लिया था .अगस्त 2019 तक उनके अभियान से 135 देशों के 36 लाख बच्चे जुड़ चुके थे.