close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

PM मोदी के सफाई कर्मचारियों के पैर पखारने को शिवसेना ने सराहा, लेकिन...

शिवसेना ने अपनी पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में कहा है कि सफाई कर्मचारियों का पांव पखारने के लिए मोदी को बधाई देनी चाहिए लेकिन उनसे जुड़ा सवाल उनके पेट के बारे में है ना कि उनके पैर के बारे में.

PM मोदी के सफाई कर्मचारियों के पैर पखारने को शिवसेना ने सराहा, लेकिन...
फाइल फोटो
Play

मुंबई: शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुंभ मेला में सफाई कर्मचारियों के पैर पखारने की मंगलवार को सराहना की लेकिन कहा कि इन लोगों का सवाल पहले उनके ‘पेट’ का है, पैर का नहीं. दो दिन पहले मोदी के उत्तर प्रदेश के संगम में डुबकी लगाने के बाद कुंभ मेला में सफाई रखने में सफाई कर्मचारियों के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए चुनिंदा कर्मियों की ‘चरण वंदना’ की थी जिसके बाद यह टिप्पणी सामने आई है. 

शिवसेना ने अपनी पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में कहा है कि सफाई कर्मचारियों का पांव पखारने के लिए मोदी को बधाई देनी चाहिए लेकिन उनसे जुड़ा सवाल उनके पेट के बारे में है ना कि उनके पैर के बारे में.

रविवार को प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में 75,000 करोड़ रुपये की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना की भी शुरूआत की और एक करोड़ से अधिक किसानों के खातों में 2,000 रुपये की पहली किस्त डाली गई.

इसका हवाला देते हुए शिवसेना ने कहा कि चुनावी मौसम शुरू हो गया है और सरकार ने पीएम-किसान योजना और निर्माणाधीन घरों पर जीएसटी 12 प्रतिशत से घटाकर पांच प्रतिशत करने सहित कई फैसले किए हैं.