सृजन घोटाला: कोर्ट का सख्त रवैया, जेल भेजे गए 17 आरोपी

सीबीआई की विशेष अदालत की प्रभारी न्यायिक दंडाधिकारी कुमारी विजया के समक्ष इन आरोपियों को पेश करते हुए सीबीआई ने जांच और सुरक्षा कारणों से उन्हें भागलपुर जेल भेजे जाने का विशेष अनुरोध किया. 

सृजन घोटाला: कोर्ट का सख्त रवैया, जेल भेजे गए 17 आरोपी
सृजन कार्यालय, भागलपुर, बिहार ( फाइल फोटो)

पटना: बिहार के भागलपुर जिला में हुए करोडों रुपए के सृजन घोटाला मामले के 17 आरोपियों को सीबीआई की विशेष अदालत में पेश किया गया. अदालत ने सभी आरोपियों को 17 अक्टूबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में भागलपुर केंद्रीय कारागार भेज दिया. सीबीआई की विशेष अदालत की प्रभारी न्यायिक दंडाधिकारी कुमारी विजया के समक्ष इन आरोपियों को पेश करते हुए सीबीआई ने जांच और सुरक्षा कारणों से उन्हें भागलपुर जेल भेजे जाने का विशेष अनुरोध किया. न्यायिक दंडाधिकारी कुमारी विजया ने सीबीआई के अनुरोध को स्वीकार करते हुए पेश किए गए सभी 17 आरोपियों को आगामी 17 अक्तूबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में भागलपुर केंद्रीय कारागार भेजने का निर्देश दिया.

सृजन घोटाला से जुडे़ चार मामलों के वंशीधर झा, सतीश कुमार झा, सरीता झा, अजय कुमार पांडेय, राकेश कुमार, प्रेम कुमार, राकेश कुमार झा, अरूण कुमार सिंह, अतुल रमण, अरूण कुमार, विजय कुमार गुप्ता, सुधांशु कुमार दास, अशोक कुमार अशोक, सुनिता चौधरी, पंकज कुमार झा, हरिशंकर झा और विनोद कुमार मंडल शामिल हैं.

सूत्रों के मुताबिक वंशीधर झा एक निजी प्रिंटिंग प्रेस के संचालक, सतीश कुमार झा सृजन महिला सहयोग संस्थान में आडिटर, सरीता झा सृजन में प्रबंधक, अजय कुमार पांडेय बैंक में कैशियर, राकेश कुमार भागलपुर जिला परिषद में नाजिर, प्रेम कुमार जिलाधिकारी कार्यालय में स्टेनो, राकेश कुमार झा भूअर्जन विभाग में नाजिर, अरूण कुमार सिंह बैंक के सेवानिवृत्त प्रबंधक, अतुल रमण बैंक के कर्मचारी, अरूण कुमार जिला कल्याण पदाधिकारी, पंकज कुमार झा सहकारिता बैंक में महाप्रबंधक, विजय कुमार गुप्ता, सुधांशु कुमार दास, हरिशंकर झा, अशोक कुमार अशोक एवं सुनिता चौधरी सहकारिता बैंक के कर्मी तथा विनोद कुमार मंडल सृजन की दिवंगत संस्थापक मनोरमा देवी के वाहन चालक के तौर पर कार्यरत थे.

इस मामले के एक आरोपी और भागलपुर जिला में कल्याण विभाग में नाजिर के पद पर कार्यरत महेश मंडल की इलाज के क्रम में गत 18 अगस्त को मौत हो गयी थी. बिहार सरकार के अनुरोध पर सीबीआई ने इस मामले को अपने हाथ में लेते हुए गत 25 अगस्त को पटना के सीबीआई थाना में इस मामले में प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच सहित अग्रतर कार्रवाई शुरू की.
(इनपुट:भाषा)