close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

डूंगरपुर: नशे की गिरफ्त में जा रहे युवा, पुलिस की गिरफ्त में आए 12 स्मगलर

पुलिस ने इसके साथ ही शहर की युवा पीढ़ी को नशे के इस दल दल से निकालने व आमजन के लिए जागरूकता अभियान भी चलाया है.

डूंगरपुर: नशे की गिरफ्त में जा रहे युवा, पुलिस की गिरफ्त में आए 12 स्मगलर
पुलिस ने उनसे 5 लाख के करीब की ब्राउन शुगर भी जब्त की.

अखिलेश शर्मा/डूंगरपुर: राजस्थान के डूंगरपुर शहर के युवा धीरे-धीरे नशे की गिरफ्त में जा रहे है. ये हम नहीं बल्कि कोतवाली थाना पुलिस द्वारा पिछले कुछ समय में की गई कार्रवाई इसी ओर इशारा कर रही है. डूंगरपुर जिले की कोतवाली पुलिस ने पिछले 12 माह में 8 कार्रवाई करते हुए नशे के सौदागरों पर शिकंजा कस लाखों की ब्राउन शुगर व गांजा भी बरामद की. वहीं, पुलिस ने इसके साथ ही शहर की युवा पीढ़ी को नशे के इस दल दल से निकालने व आमजन के लिए जागरूकता अभियान भी चलाया है. इस अभियान के माध्यम से नशे की गिरफ्त में आए युवाओं का चयन कर नशामुक्ति शिविरों में भेजा जाएगा.

बता दें कि प्रदेश का डूंगरपुर शहर अपनी स्वच्छता व सुन्दरता के कारण आज पूरे देश में अपनी पहचान बनाई. लेकिन इस सुंदर व स्वच्छ शहर को अब नशे के कीचड़ से दागदार होता जा रहा है. कोतवाली थाना पुलिस के आंकड़ों की ओर देखें तो डूंगरपुर शहर में वर्ष 2013 से लेकर 2015 तक एनडीपीएस एक्ट में एक भी मामला दर्ज नहीं था. लेकिन वर्ष 2016 से अब तक हर साल एनडीपीएस एक्ट में मुकदमे दर्ज हो रहे है. अगर पिछले 12 महीने की बात करें तो कोतवाली पुलिस ने 8 मामले दर्ज करते हुए नशे के 15 सौदागरों को पकड़ा था. वहीं, पुलिस ने उनसे 5 लाख के करीब की ब्राउन शुगर जब्त भी की. ऐसे में कोतवाली थाना पुलिस की यह कार्रवाई से साफ पता चल रहा है कि शहर में नशे का जहर घुलता जा रहा है.

इधर, अब शहर में कई युवा इस नशे के आदि हो गए हैं, अब पुलिस ने परिवार को बर्बाद होने व टूटने से बचाने के लिए नशा मुक्ति अभियान चलाया है. एसपी जय यादव के निर्देश पर चलाए गए अभियान के तहत पुलिस की टीम ने आमजन को नशे से दूर रहने व दुष्प्रभावों को बताते हुए जागरूक किया. करने के साथ पुलिस ऐसे युवाओं को चिन्हित करने में जुटी है जो लंबे समय से नशे से ग्रसित हो चुके हैं. इधर पुलिस चयनित ऐसे युवाओं को उदयपुर नशा मुक्ति केंद्र भेजकर उनकी जीवनशैली को व्यवस्थित करने के लिए प्रयास करेगी.

बहरहाल, नशे के खिलाफ कोतवाली पुलिस की कार्रवाई लगातार जारी है. वहीं, कोतवाली पुलिस की ओर से शहर को नशामुक्त करने के लिए की गई ये पहल भी काबिले तारीफ है. अब देखना होगा की पुलिस की इस पहल का असर शहर में कितना हो पाता है और शहर में पुलिस की नशामुक्ति की मंशा कितनी पूरी हो पाती है.