close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बीकानेर में सामने आए डेंगू के 5 मरीज़, स्वास्थ्य विभाग की उड़ी नींद

प्रदेश में अभी बारिश थमी ही थी के अब मौसमी बीमारी कहर बरसना शुरू कर दिया है. शहर में बुखार, उलटी, दस्त के साथ डेंगू जैसी गंभीर बिमारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है.

बीकानेर में सामने आए डेंगू के 5 मरीज़, स्वास्थ्य विभाग की उड़ी नींद
पीबीएम अस्पताल में स्पेशल वार्ड बनाकर डॉक्टर की टीम गठित कर दी गई है.

बीकानेर: रेगिस्तान में मौसमी बीमारियां कहर बनकर टूट पड़ी है. जहां सीजन की शुरुआत के साथ एक साथ डेंगू के पांच मरीजों के सामने आने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया हैं. वही मौसमी बीमारियों से पीड़ित मरीज़ होस्पिटल में भारी संख्या में पहुंच रहे हैं. लगातार बढ़ रहे आंकडें के साथ होस्पिटल प्रशासन के भी होश उड़ा दिए हैं.

प्रदेश में अभी बारिश थमी ही थी के अब मौसमी बीमारी ने कहर बरसना शुरू हो गया है. शहर में बुखार, उलटी, दस्त के साथ डेंगू जैसी गंभीर बिमारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है, जिसके कारण बीकानेर संभाग के सबसे बड़े पीबीएम अस्पताल में मरीजो की संख्या बढ़ती जा रही है. ऐसे में बीकानेर की दो तस्वीरें सामने आई है. जहां एक तरफ मौसमी बिमारी के प्रकोप को देखते हुए पीबीएम अस्पताल में स्पेशल वार्ड बनाकर डॉक्टर की टीम गठित कर दी है तो दूसरी और मरीजों की संख्या में इजाफे के बाद अस्पताल में बने वार्ड फुल हो गए है. परिजन मरीजों को इधर-उधर लेकर भटक रहे है और उनको इलाज नहीं मिल रहा है. जिससे अस्पताल में आने वाले मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

खबर के मुताबिक बीकानेर संभाग के सबसे बड़े पीबीएम अस्पताल का जहा इन दिनों मौसमी बीमारी के चलते डेंगू के पांच रोगी एक साथ होस्पिटल में भर्ती हुए हैं. वो भी सितम्बर के महीने में जो की चिंता का विषय हैं. जहां मध्य जून से बीच सितम्बर तक बारिश का मौसम होने के कारण मरीज अक्टूबर में आना शुरू होते हैं वहीं इस बार मौसम के परिवर्तन के साथ बीमारियां फैल रही हैं.

मगर हर साल की तरह स्वस्थ्य विभाग बड़ी घटना या बीमारी फैलने के बाद जागता है. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा शहरी क्षेत्रों फोगिग और एंटी लार्वा की कार्यवाही नहीं करने से मरीजों की संख्या में इजाफा होता जा रहा है. मौसमी बिमारियां थमने का नाम नहीं ले रही है. रोगियों का अस्पताल में आना सिलसिला जारी है. हालांकि एतिहात तौर पर मरीजो की बढ़ती संख्या को देखते हुए अस्पताल प्रशासन ने पीबीएम अस्पताल में स्पेशल वार्ड बनकर डॉक्टर की टीम गठित कर दी है. अस्पताल में आने वाले मरीजो की जांच की जा रही है.