• 0/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    0बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    0कांग्रेस+

  • अन्य

    0अन्य

J&K: आतंकियों पर सुरक्षाबलों की बड़ी कार्रवाई, 24 घंटे में टॉप जैश कमांडर समेत 6 आतंकी ढेर

गुरुवार को पुलवामा और शोपियां जिले में सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ों में छह आतंकवादी मारे गए हैं. साथ ही सेना के 2 जवान शहीद भी हो गए और एक आम नागरिक की भी जान चली गई.

J&K: आतंकियों पर सुरक्षाबलों की बड़ी कार्रवाई, 24 घंटे में टॉप जैश कमांडर समेत 6 आतंकी ढेर
2 एनकाउंटर में 6 आतंकी मारे गए. फाइल फोटो

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों को आतंकियों के खिलाफ गुरुवार को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. गुरुवार को पुलवामा और शोपियां जिले में सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ों में छह आतंकवादी मारे गए हैं. इनमें जैश-ए-मोहम्‍मद का टॉप कमांडर भी शामिल है. वहीं सेना के 2 जवान शहीद हो गए और एक आम नागरिक की भी जान चली गई.

पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि पुलवामा जिले में हुई मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी मारे गए और एक सैनिक तथा एक नागरिक की भी मौत हो गई. वहीं शोपियां मुठभेड़ में भी तीन आतंकवादी मारे गए. प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ पुलिस और सुरक्षा बलों ने विश्वसनीय सूचना के आधार पर सुबह पुलवामा जिले में डेलीपुरा इलाके की घेराबंदी करके तलाशी अभियान शुरू किया था.’’ 

 

प्रवक्ता ने बताया कि जब सुरक्षा बल एक मकान और उसके आसपास से आम नागरिकों को बाहर निकाल रहे थे तभी वहां छिपे आतंकवादियों ने अंधाधुंध गोलीबारी आरंभ कर दी. उन्होंने कहा, ‘‘इस दौरान सेना के एक जवान संदीप शहीद हो गए और एक आम नागरिक रईस डार की भी मौत हो गई.’’ 

उन्होंने बताया कि इसके बाद सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई की, जिससे मुठभेड़ शुरू हो गई. मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए. मारे गए आतंकवादियों के शव बरामद कर लिए गए हैं. उन्होंने कहा, ‘‘आतंकवादियों की पहचान करीमाबाद, पुलवामा निवासी नसीर पंडित, शोपियां निवासी उमर मीर और पाकिस्तान के खालिद के रूप में की गई है.’’

प्रवक्ता ने बताया कि पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार मारे गए आतंकवादी प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से संबंधित थे. वे सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमला एवं आम नागरिकों पर ज्यादतियां करने समेत कई आतंकवादी अपराधों में संलिप्तता को लेकर वांछित थे.

उन्होंने कहा, ‘‘नसीर पंडित का आतंकवादी संगठन में शामिल होने से पहले आतंकवादी गतिविधियों का पुराना रिकॉर्ड था और जैश में शामिल होने के बाद इलाके में आतंकवादी हमले करने और उनका षड्यंत्र रचने के संबंध में उसके खिलाफ कई आतंकवादी आपराधिक मामले दर्ज हैं.’’ 

प्रवक्ता ने बताया कि नसीर 2018 में ईद की पूर्व संध्या पर पुलवामा के पुलिसकर्मी मोहम्मद याकूब शाह की हत्या में भी शामिल था. वह आतंकवादी इलाके में दर्ज की गई हथियार छीनने की कई घटनाओं में भी शामिल था. उन्होंने बताया कि जैश-ए-मोहम्मद के कमांडर के रूप में काम कर रहा खालिद इलाके में सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमले करने एवं आम नागरिकों पर ज्यादतियां करने में शामिल था. उन्होंने बताया कि मुठभेड़ स्थल से हथियार गोला-बारूद और अभियोजन योग्य सामग्री बरामद की गई है.

प्रवक्ता ने बताया कि दूसरी ओर आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया जानकारी मिलने के बाद सुरक्षा बलों ने शोपियां जिले के हंदेव इलाके में भी घेराबंदी कर तलाश अभियान शुरू किया. प्रवक्ता ने कहा, ‘‘तलाश अभियान के दौरान, छुपे हुए आतंकवादियों ने तलाश दल पर गोलीबारी करना शुरू कर दिया. शुरुआती गोलीबारी में सेना का एक जवान सिपाही रोहित घायल हो गया. उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां इलाज के दौरान उन्होंने भी दम तोड़ दिया.'

उन्होंने बताया कि उनकी गोलीबारी को सुरक्षा बलों ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया, जिससे मुठभेड़ शुरू हो गई. उन्होंने कहा, ‘‘मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए और उनके शव भी मौके से बरामद कर लिए गए हैं.’’ प्रवक्ता ने बताया कि आतंकवादियों की पहचान और वे किस समूह के थे इसका पता लगाया जा रहा है.