close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सोनभद्र में खून संघर्ष में 9 की मौत, अखिलेश बोले- BJP सरकार अपराधियों के सामने नतमस्तक

सोनभद्र में जमीनी रंजिश को लेकर हुए आपसी विवाद में जमकर खूनी संघर्ष हुआ. वारदात में 9 लोगों की मौत हो गई. घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जिसमें कुछ की स्थिति गंभीर बनी हुई है. 

सोनभद्र में खून संघर्ष में 9 की मौत, अखिलेश बोले- BJP सरकार अपराधियों के सामने नतमस्तक
एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव (फाइल फोटो)

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सोनभद्र में जमीनी विवाद को लेकर बुधवार को हुए जनसंहार को लेकर उप्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि भाजपा सरकार अपराधियों के सामने नतमस्तक हो चुकी है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'अपराधियों के आगे नतमस्तक भाजपा सरकार में एक और जनसंहार. सोनभद्र में भू-माफियाओं द्वारा जमीन विवाद में 9 लोगों की हत्या दहशत एवं दमन का प्रतीक. सभी मृतकों के परिवार को 20-20 लाख रुपये मुआवजा दे और दोषियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई करे सरकार.'

बता दें सोनभद्र में जमीनी रंजिश को लेकर हुए आपसी विवाद में जमकर खूनी संघर्ष हुआ. वारदात में 9 लोगों की मौत हो गई. घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जिसमें कुछ की स्थिति गंभीर बनी हुई है.

आईजी लॉ एंड ऑर्डर प्रवीण कुमार ने बताया कि घटना ग्रामसभा मूर्तिया के गांव उम्भा की है. उन्होंने बताया कि प्रधान ने दो साल पहले वहीं पर 90 बीघे जमीन खरीदी जिस पर अपने समर्थकों के साथ कब्जा करने गया था. स्थानीय लोगों ने इसका विरोध किया. इसके बाद बवाल हो गया. इसमें 3 महिलाओं और 4 अन्य ग्रामीणों की मौत हो गई.  मामले में दो लोग गिरफ्तार किए गए हैं. 

9 killed in group clash over property dispute in Sonbhadra, Akhilesh Yadav targets BJP

उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिवार के प्रति सहानुभूति व्यक्ति की है. उन्होंने घायलों को तत्काल चिकित्सीय सहायता देने का निर्देश दिया है. इस संबंध में सोनभद्र के जिला मजिस्ट्रेट को आदेश जारी किया गया है. मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने उप्र के डीजीपी को आदेश दिया है कि इस मुद्दे पर वह व्यक्तिगत नजर रखें और घटना की जांच कराएं.

स्थानीय लोगों के मुताबिक विवाद के दौरान आपस में असलहे से फायरिंग और गड़ासा चलने से कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए.  ग्रामीणों के अनुसार प्रधान पक्ष और गांव के दूसरे पक्ष को लेकर जमीन का विवाद था. बुधवार की दोपहर असलहों से लैस होकर जमीन के विवाद को लेकर बहस शुरू हुई जिसने खूनी संघर्ष का रूप ले लिया. गंभीर रूप से घायल दो लोगों को वाराणसी रेफर कर दिया गया है. मामले की जानकारी होने के बाद प्रशासनिक अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और घायलों के बेहतर इलाज के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिया.