close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

9वीं पास किसान ने बनाया देसी जुगाड़, कबाड़ की बाइक से कर रहा खेत की जुताई

ट्रैक्टर से खेती करने पर एक बार में 300 से 400 रूपये का खर्च आ जाता है वही इस मिनी ट्रैक्टर से जुताई करने पर 100 रूपये मात्र खर्च आता है. 

9वीं पास किसान ने बनाया देसी जुगाड़, कबाड़ की बाइक से कर रहा खेत की जुताई

गुजरात: वर्तमान के समय में किसान खेती में आने वाले खर्च को कम करने के लिए कई नए प्रयोग करते हैं. ऐसे ही मोरबी जिले के सिंधावर में रहने वाले और 9वीं  क्लास पढ़े हुए शब्बीर भाई ने पुरानी मोटरसाइकिल से खेतों को जोतने के लिए ट्रैक्टर तैयार किया है. और यह काम वो पिछले 10 सालों से कर रहे हैं. अब शब्बीर भाई ने राज्य के कुल 33 जिलों में 450 बाइक ट्रैक्टर बनाकर किसानों को दे चुके हैं. जिससे किसानों की जिंदगी आसान और कम खर्च वाली खेती हो गई है. इस तरह के ट्रैक्टर से किसानों की आय में भी वृद्धि हो रही है. बाइक से जो ट्रैक्टर तैयार किया जाता है उसमें खेती के सभी औजार लग सकते हैं. 

इस वजह से किसानों को इसे इस्तेमाल करने में किसी भी तरह की असुविधा नहीं होती है. शब्बीरभाई का परिवार सालों से खेती का काम करता है और जब उनके पिता खेती का काम करते थे तब खेती करने में काफी खर्च आता था तब शब्बीर भाई सोचते थे की खेती करने का खर्च किस तरह कम किया जाये ताकि जुताई के लिए बैलों की जरुरत न पड़े और न ही ट्रैक्टर की.

यही सोचते सोचते उनकी नजर अपनी मोटरसाइकिल पर पड़ी और उन्होंने बाइक से ही ट्रैक्टर बनाए की सोच ली. शब्बीर भाई ने बाइक का पीछा पहिया निकालकर उसमे दो बड़े पहिये लगा दिए और ट्रैक्टर वाले औजार लगा दिए और एक मिनी ट्रैक्टर तैयार कर दिया. पहले इसका इस्तेमाल उन्होंने अपने खेत को जोतने के लिए शुरू किया और उन्हें अपना यह तरीका काफी कारगर लगा.

और दूसरे किसानो ने भी यह देखा तो वो भी शब्बीर भाई के पास अपनी मोटरसाइकिल लेकर इस तरह का ट्रैक्टर बनवाने आने लगे. अब शब्बीर भाई द्वारा बनाये गए यह मिनी मोटरसाइकिल ट्रैक्टर सिर्फ मोरबी जिले में ही नहीं बल्कि गुजरात के लगभग सभी जिलों में प्रख्यात है और अब तक गुजरात भर में 450 ट्रैक्टर बनाकर दे चुके है.

अगर एक किसान ट्रैक्टर खरीदता है तो उसकी कीमत लगभग 5 लाख से भी ज्यादा होती है. और खेती के औजारों की कीमत अलग से होती है.  लेकिन पुरानी बाइक से ही ट्रैक्टर तैयार करने में सिर्फ 20 से 25 हजार का खर्च आता है. और किसी ट्रेक्टर से यह मिनी ट्रेक्टर कम काम नहीं करता है. ट्रैक्टर या बैलों से खेती करने के लिए एक से ज्यादा लोगों की जरुरत होती है वही इस मिनी ट्रैक्टर से जुताई करने के लिए एक ही व्यक्ति की जरुरत पड़ती है.

ट्रैक्टर से खेती करने पर एक बार में 300 से 400 रूपये का खर्च आ जाता है वही इस मिनी ट्रेक्टर से जुताई करने पर 100 रूपये मात्र खर्च आता है. फ़िलहाल तो किसानो के लिए शब्बीर भाई द्वारा यह मिनी ट्रेक्टर किसानो के लिए आशीर्वाद समान बना हुआ है और किसान इस मिनी ट्रैक्टर से आने वाले खर्च से काफी खुश है और उनकी आय में भी वृद्धि हो रही है.