अब्दुल सत्तार ने की सीएम उद्धव ठाकरे से मुलाकात, इस्तीफे की खबरों को किया खारिज

शनिवार शाम को अब्दुल सत्तार ने मीडिया में चल रही खबरों पर कहा था कि अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से मातोश्री में मिलकर अपनी भूमिका स्पष्ट करूंगा.

अब्दुल सत्तार ने की सीएम उद्धव ठाकरे से मुलाकात, इस्तीफे की खबरों को किया खारिज
फाइल फोटो...

मुंबई: महाराष्ट्र में अपनी ही सरकार से नाराज चल रहे महा विकास अघाड़ी सरकार में शिवसेना कोटे के मंत्री अब्दुल सत्तार ने आज सीएम उद्धव ठाकरे से मुलाकात की. बता दें कि शनिवार (4 जनवरी) को खबर आई थी कि अब्दुल सत्तार ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. लेकिन आज सीएम से मुलाकात के बाद अब्दुल सत्तार ने बताया कि उन्होंने इस्तीफा नहीं दिया है. मीडिया से बात करते हुए अब्दुल सत्तार ने कहा, 'मैंने कोई इस्तीफा नही दिया है..अफवाह मेरे बारे में फैलाई गई...मैंने इसकी जानकारी उद्धव को दी है..उद्धव इलाके के अन्य नेताओं से बात करेंगे. कल मैं फिर उद्धव ठाकरे से मिलूंगा.जो जिम्मेदारी दी गई है उसे मैं निभाउंगा.

शनिवार शाम को अब्दुल सत्तार ने मीडिया में चल रही खबरों पर कहा था कि अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से मातोश्री में मिलकर अपनी भूमिका स्पष्ट करूंगा.

इससे पहले खबर थी कि अब्दुल सत्तार कैबिनेट मंत्री की जगह राज्यमंत्री बनाए जाने से नाराज हैं. उनके इस्तीफा देने की भी खबर थी, लेकिन अब्दुल सत्तार ने इस्तीफा देने की बात को खारिज कर दिया है. अब्दुल सत्तार को मनाने के लिए औरंगाबाद में पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने मुलाकात की थी. सत्तार के नए बयान को देखकर लगता है कि पार्टी उन्हें मनाने में फिलहाल कामयाब रही है.

इस्तीफे की अफवाहों के बीच राज्यमंत्री अब्दुल सत्तार को लेकर शिवसेना ने तीखी प्रतिक्रिया दी थी. शनिवार को शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि अब्दुल सत्तार असली शिवसैनिक नहीं है.

एनसीपी की कांग्रेस को चेतावनी, 'वीर सावरकर पर विवादित बुकलेट को वापस लिया जाए'

संजय राउत ने ज़ी मीडिया संवाददाता से बात करते हुए कहा था, 'जो अभी नाराज दिख रहे हैं वो पहले से शिव सैनिक नहीं है, उनके इस्तीफा देने की मुझे जानकारी नहीं है. इस्तीफा मुख्यमंत्री राजभवन को जाता है लेकिन ऐसा नहीं हुआ है. वह पहली बार पार्टी में आए हैं, फिर भी अब्दुल सत्तार को मंत्रिमंडल मे हमने एडजेस्ट किया. हमें पूरा भरोसा है कि अब्दुल सत्तार शिव बंधन को नहीं छोड़ेंगे.'

बता दें 30 दिसंबर को उद्धव ठाकरे सरकार का कैबिनेट विस्तार हुआ था, उसी दिन अब्दुल सत्तार ने पद और गोपनीयता की शपथ ली थी.