close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में प्रशासन ने फर्जी आईटीआई सेंटर्स को थमाया नोटिस, मांगा जवाब

राजस्थान में 80 फीसदी आईटीआई सेंटर्स में अनियमितताएं सामने आने के बाद अब तकनीकी रास्ते अपनाकर ऐसे फर्जीवाड़े पर लगाम लगाया जाएगा.

राजस्थान में प्रशासन ने फर्जी आईटीआई सेंटर्स को थमाया नोटिस, मांगा जवाब
राजस्थान में 411 आईटीआई सेंटर्स फर्जी तरीके के संचालित हो रहे हैं.

जयपुर: राजस्थान में फर्जी आईटीआई सेंटर्स के भंडाफोड के बाद आजीविका विकास निगम बड़ा बदलाव करने जा रहा है. जी मीडिया की पड़ताल में हुए खुलासे के बाद आरएसएलडीसी सिस्टम को बदलने जा रहा है. आईटीआई सेंटर्स की निगरानी के हर सेंटर्स पर कैमरे लगाए जाएंगे. राजस्थान में 80 फीसदी आईटीआई सेंटर्स में अनियमितताएं सामने आने के बाद अब तकनीकी रास्ते अपनाकर ऐसे फर्जीवाड़े पर लगाम लगाया जाएगा. इसके अलावा इन सेंटर्स को नोटिस थमाकर जवाब मांगा है.

राजस्थान के 80 फीसदी आईटीआई सेंटर्स पर बच्चों का हुनर नहीं तराशा जाता, बल्कि खुलेआम शिक्षा का सौदा किया जाता है. ऐसे ही काले कारनामों को जड से उखाड़ फेंकने के लिए अब राजस्थान के सभी 2000 सरकारी, प्राइवेट सरकारी आईटीआई सेंटर्स पर कैमरे लगाए जाएंगे. सभी सेंटर्स की आरएसएलडीसी दफ्तर से निगरानी होगी. इसके साथ साथ फेस बॉयोमैट्रिक सिस्टम से स्टूडेंट्स की हाजिरी होगी. स्टूडेंट्स के लिए ड्रेस और आईकार्ड जरूरी होंगे. फर्जी आईटीआई सेंटर्स के लिए आरएसएलडसी केंद्र सरकार को भी पत्र लिखेगा.

आरएसएलडीसी के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ.समित शर्मा के मुताबिक ऐसे फर्जीवाड़ा रोकने के लिए अब विभाग फेस बॉयोमेट्रिक के साथ कैमरे भी लगाएगी. बता दें कि, राजस्थान में 411 आईटीआई सेंटर्स फर्जी तरीके के संचालित कर करोडों का बजट उठा रहे है. जिसके बाद विभाग में संचालकों को नोटिस थमया है.

इसके अलावा 1100 से ज्यादा ऐसे सेंटर्स भी जहां कमियां पाई गई है. उन्हें भी विभाग ने नोटिस थमाकर जवाब मांगा है. वहीं गुरुवार को आरएसएलडीसी की वीडियों क्रांफ्रेसिंग होगी, जिसमें बदलाव के सभी फैसले लिए जाएंगे. राजस्थान के केवल 20 फीसदी आईटीआई सेंटर्स ऐसे है जो सही तरीके से संचालित हो रहे है, बाकी के 80 फीसदी सेंटर पर कमियां पाई है.