बेरूत की तरह भारत में भी हो सकता है बड़ा हादसा! इस शहर में रखा है सैकड़ों टन अमोनियम नाइट्रेट

अमोनियम नाइट्रेट चेन्‍नई के बाहरी इलाके में एक वेयरहाउस में सुरक्षित रखा हुआ है जिसके 2 किलोमीटर तक आसपास न ही कोई इमारत है और न ही ये कोई रिहायशी इलाका है. 

बेरूत की तरह भारत में भी हो सकता है बड़ा हादसा! इस शहर में रखा है सैकड़ों टन अमोनियम नाइट्रेट
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

चेन्नईः तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई से 30 किलोमीटर दूर स्थित मनाली के एक गोदाम में कुल 740 टन अमोनियम नाइट्रेट रखा हुआ है जिसे लेकर लोग चिंता जाहिर कर रहे थे. हालांकि अब कस्टम अधिकारियों ने एक माह के भीतर सुरक्षित तरीके से डिस्पोज (निपटाना) करने का आश्वसन दिया है. चेन्नई के कस्टम अधिकारी के मुताबिक, सितंबर 2015 में अमोनियम नाइट्रेट कैमिकल के 37 कंटेनरों (700 टन) को जब्त किया गया था. ये कंटेनर दक्षिण कोरिया से चेन्नई बंदरगाह पर आए थे जिन्हें उर्वरक बताया गया था. अधिकारी का कहना है, 740 टन अमोनियम नाइट्रेट (Ammonium Nitrate) एक सुरक्षित स्थान पर रखा गया है और इसे लेकर चिंता करने जैसी कोई बात नहीं है. 

कस्‍टम के शीर्ष अधिकारी के मुताबिक, अमोनियम नाइट्रेट चेन्‍नई के बाहरी इलाके में एक वेयरहाउस में सुरक्षित रखा हुआ है जिसके 2 किलोमीटर तक आसपास न ही कोई इमारत है और न ही ये कोई रिहायशी इलाका है. उन्होंने यह भी बताया कि कोर्ट के आदेश पर इसकी ई-नीलामी की प्रक्रिया भी चल रही है. अधिकारी के मुताबिक यह प्रक्रिया एक महीने में पूरी हो जाएगी. 

ये भी पढ़ें- VIDEO: व्‍हाइट गाउन में प्री-वेडिंग शूट करा रही थी दुल्‍हन, जोरदार धमाका हुआ, फिर...

बता दें कि अमोनियम नाइट्रेट का प्रयोग उर्वरकों और विस्फोटकों में बड़ी मात्रा में किया जाता है. अमोनियम नाइट्रेट एक सफेद, क्रिस्टलीय रसायन है जो पानी में घुलनशील है. यह खनन और निर्माण में प्रयुक्त वाणिज्यिक विस्फोटकों के निर्माण में मुख्य घटक है.

बेरूत में हुए धमाके का कारण भी वहां के बंदरगाह में रखे 2,700 टन अमोनियम नाइट्रेट को बताया जा रहा है. कस्टम अधिकारी के मुताबिक अमोनियम के इन कंटेनरों को खतरनाक सामग्री के क्षेत्र में सुरक्षित रूप से संग्रहित किया जाता है. कंटेनरों में पीले रंग की मार्किंग होती है जो कि लॉजिस्टिक्स के दौरान विस्फोटकों को दर्शाती है.

लेबनान की राजधानी बेरूत (Bbeirut explosion) में मंगलवार (4 अगस्त) की शाम को बड़ा धमाका हुआ जिसमें 135 लोगों की मौत की पुष्टि हुई और 5 हजार से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. इसके अलावा बंदरगाह से हुए विस्फोट से कई इमारतें भी बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हुई हैं. ऐसे में बेरूत के तमाम लोग बेघर भी हो गए हैं. इसकी वजह बंदरगाह में रखा अमोनियम नाइट्रेट (Ammonium nitrate) बताया जा रहा है. इसके बाद तमिलनाडु की राजधानी में लोगों की चिंता बढ़ गई है.