close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: सिविल ठेकेदारों के अरबों के पेमेंट पर लगा 'ग्रहण', किया प्रदर्शन

बुधवार को बड़ी संख्या में प्रदेशभर के सिविल ठेकेदार एकत्रित होकर जयपुर में शिक्षा संकुल पहुंचे और जमकर विरोध प्रदर्शन किया.

जयपुर: सिविल ठेकेदारों के अरबों के पेमेंट पर लगा 'ग्रहण', किया प्रदर्शन
आज सिविल ठेकेदारों ने जयपुर के शिक्षा संकुल में प्रदर्शन किया. (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: प्रदेश में अब तक पीडब्लूडी (PWD) के साथ काम करने वाले प्राइवेट कॉन्ट्रेक्टर (Private Contractor) ही पेमेंट नहीं होने का रोना रो रहे थे. अब सरकारी स्कूल (Government Schools)की बिल्डिंग्स बनाने वाले सिविल ठेकेदार भुगतान नहीं होने की दुहाई देते हुए काम बंद होने की नौबत आने का दुखड़ा रो रहे हैं. आलम ये है कि विभाग पर पुराने पेमेंट्स करने के बजाए नए वर्क टेंडर जारी करने की तोहमत सिविल ठेकेदार लगाने लगे हैं.

प्रदेश में सरकारी स्कूलों के भवनों के निर्माण का ठेका सिविल ठेकेदारों को दे रखा गया है, लेकिन पिछले डेढ़ साल से इन सिविल ठेकेदारों को भुगतान नहीं होने के बाद आज इन सिविल ठेकेदारों का गुस्सा फूट पड़ा. बुधवार को बड़ी संख्या में प्रदेशभर के सिविल ठेकेदार एकत्रित होकर जयपुर में शिक्षा संकुल पहुंचे और जमकर विरोध प्रदर्शन किया. 

डेढ़ साल से नहीं हुआ भुगतान
इस दौरान सिविल ठेकेदारों ने आरोप लगाया कि पिछले डेढ़ साल से ठेकेदारों को भुगतान नहीं हो पाया है, गंगानगर से आए सिविल ठेकेदार मुकेश गोदारा ने बताया कि मार्च 2018 से सितम्बर 2019 तक का भुगतान नहीं हो पाया है और ये भुगतान करीब 600 करोड़ रुपये से ज्यादा का हो गया है, 400 करोड़ रुपये जहां भुगतान बाकी है तो वहीं करीब 200 करोड़ रुपये का बिल अप्रूवल होने बाकी हैं. ऐसे में समग्र शिक्षा विभाग की ओर से जानबूझकर ठेकेदारों के भुगतान में देर की जा रही है और चक्कर कटवाए जा रहे हैं. यही हाल बाकियों का भी है. 

दफ्तरों के चक्कर काट कर थके ठेकेदार
हनुमानगढ़ से आए ठेकेदार मौसम अली पिछले एक साल से जयपुर के चक्कर काट-काटकर थक जाने का दुखड़ा रो रहे है. मौसम अली की मानें तो भुगतान के लिए समग्र शिक्षा विभाग के बाद करीब 125 करोड़ रुपये की राशि आवंटित हो चुकी है, लेकिन शिक्षा विभाग भुगतान नहीं कर रहा है, जिसके चलते ठेकेदारों को अब आर्थिक समस्या का सामना करना पड़ रहा है. अभी तक जहां पिछला भुगतान ही नहीं हुआ है. वहीं, समग्र शिक्षा विभाग की ओर से अगले कार्यों के लिए अलग से निविदा भी जारी कर दी गई है.

(Edited by: सतेंद्र यादव)