ZEE NEWS से फडणवीस का खुलासा- सरकार बनाने के लिए अजित और शरद पवार में हुई थी बात

देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि बीजेपी के साथ सरकार बनाने से पहले अजित पवार ने NCP विधायकों से मेरी बात कराई थी.

ZEE NEWS से फडणवीस का खुलासा- सरकार बनाने के लिए अजित और शरद पवार में हुई थी बात
देवेंद्र फडणवीस ने दावा किया कि अजित पवार ने सरकार बनाने के लिए उनसे संपर्क किया था. (फाइल फोटो)

मुंबई: भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने ZEE NEWS के साथ खास बातचीत में महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार गठन को लेकर चले सियासी घटनाक्रम को लेकर बड़े खुलासे किए हैं. फडणवीस ने कहा कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) चीफ शरद पवार (Sharad Pawar) की सहमति से अजित पवार (Ajit Pawar) ने हमारे साथ मिलकर सरकार बनाई थी. अजित ने ही बीजेपी से सरकार बनाने को लेकर संपर्क साधा था.

फडणवीस ने अपने बयान में कहा, ''अजीत पवार ने मुझे कहा था कि शिवसेना और कांग्रेस के साथ तीन पार्टियों की सरकार हम नहीं चला सकते हैं, इसलिए हमें मिलकर सरकार बनाना चाहिए. अजीत ने मुझसे यह भी कहा था कि शरद पवार से सरकार बनाने की पूरी बात कर ली गई है और उनकी इजाजत है.''

एनसीपी के कई विधायकों से कराई बात
बीजेपी के नेता ने दावा किया कि बीजेपी के साथ सरकार बनाने के पहले अजीत पवार ने एनसीपी के कई विधायकों से उनकी बात भी कराई थी. पूर्व सीएम ने कहा, ''एनसीपी नेता से भरोसा मिलने पर ही हमने सरकार बनाई. अब वह फैसला सही था या गलत? वो बाद में तय होगा.''

महाराष्ट्र पर बड़ा खुलासा: शरद पवार इन 2 शर्तों पर करना चाहते थे 'डील', PM मोदी नहीं हुए तैयार
वहीं, एनसीपी प्रमुख शरद पवार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच कथित 'डील' को लेकर फडणवीस ने कहा, ''शरद पवार जो मीडिया से बोल रहे हैं, उसके बारे में हम वक्त आने पर जवाब देंगे.'' देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ''बीजेपी कभी किसी से डील नहीं करती है. अगर डील करती तो किसी पार्टी के साथ ढाई साल के फार्मूले पर बीजेपी राजी हो जाती तो अब तक हमारी सरकार बन गई होती.''

ठाकरे से पहले जैसे संबंध
बीजेपी नेता फडणवीस ने शिवसेना नेता और राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से रिश्तों को लेकर कहा, ''उद्धव ठाकरे जी से मेरे निजी संबंध वैसे ही हैं जैसे पहले थे. हमारे बीच कोई दीवार खड़ी नहीं हुई है.''

आरे मेट्रो प्रोजेक्ट
राज्य की नई सरकार द्वारा आरे मेट्रो प्रोजेक्ट पर रोक लगाने को लेकर पूर्व सीएम ने कहा, ''विकास के कामों को बंद करने से रोजगार को भी ठेस पहुंचेगी. बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट मे बेहद कम ब्याज पर कर्ज मिल रहा है. मुझे नहीं लगता है कि बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट यह सरकार रोक देगी, लेकिन मुझे लगता है कि ऐसे में विकास के कामों को रद्द करने का वातावरण बनाना भी एक गलत संदेश भेज रहा है.''

सरकार को जरूर घेरेंगे
इंटरव्यू में देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ''उद्धव ठाकरे सरकार को फैसले लेने का हम वक्त देंगे, लेकिन वक्त लेने के बाद भी अगर सरकार ने काम नहीं किए तो हम सरकार को जरूर घेरेंगे.''

सरकार कितने दिन चलेगी?
महाविकास अघाडी की सरकार अपने पांच साल पूरे कर पाएगी या नहीं? सवाल के जवाब में बीजेपी नेता ने कहा, ''यह सरकार कितने दिन चलेगी? इस सरकार को भी नहीं मालूम है. कांग्रेस और शिवसेना एक साथ आए हैं, यह अपने आप में विरोधाभास की बात है.''

पार्टी में कोई विवाद नहीं
इसके अलावा बीजेपी में आंतरिक विवाद की खबरों को पार्टी के नेता फडणवीस ने मीडिया की उपज करार दिया है. उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी में ओबीसी और सभी जाति के लोगों को समान प्रतिनिधित्व मिला है. प्रधानमंत्री मोदीजी भी ओबीसी जाति के हैं.

उद्धव के शपथ ग्रहण समारोह में खास तौर पर पहुंचे फडणवीस, नहीं दिखे BJP के बड़े नेता

दरअसल, 24 अक्टूबर को घोषित चुनावी नतीजों में महाराष्ट्र में बीजेपी को 105, शिवसेना को 56, कांग्रेस को 44 और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के खाते में 54 सीटें आईं. इसके बाद शिवसेना व भाजपा का चुनाव पूर्व गठबंधन, सीटों के बंटवारे व मुख्यमंत्री पद को लेकर टूट गया. बीजेपी की तरफ से संख्या की कमी के चलते सरकार बनाने से इनकार करने के बाद राज्यपाल ने दूसरी सबसे बड़ी पार्टी शिवसेना को आमंत्रित किया, लेकिन वह भी विफल रही, जिससे राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया गया. बाद में शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस ने सरकार बनाने के लिए महाराष्ट्र विकास अघाड़ी नामक गठबंधन बनाया और तीनों दलों के बीच सरकार गठन को लेकर न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर चर्चा होने लगी. लेकिन इसी बीच शरद पवार के भतीजे अजित पवार ने बीती शुक्रवार रात बीजेपी को समर्थन दिया और अपनी पार्टी के विधायकों के समर्थन का भरोसा दिया. इसके बाद तुरंत देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री और एनसीपी नेता अजित पवार को राज्यपाला ने उप मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाई. हालांकि, यह महाराष्ट्र में सबसे अल्पकालिक सरकार रही, जो शनिवार सुबह 8 बजे शपथ लेने के बाद सिर्फ 80 घंटे तक ही रही.

ये वीडियो भी देखें: