महाराष्ट्र: अपने समर्थक विधायकों को मुंबई से बाहर यहां ले जा रहे हैं अजित पवार

एनसीपी नेता और अब डिप्टी सीएम अजित पवार अपने समर्थक विधायकों को मुंबई से बाहर ले जाने की तैयारी में है. 

महाराष्ट्र: अपने समर्थक विधायकों को मुंबई से बाहर यहां ले जा रहे हैं अजित पवार

मुंबई: एनसीपी (NCP) नेता और अब डिप्टी सीएम अजित पवार (Ajit Pawar) अपने समर्थक विधायकों को मुंबई से बाहर ले जाने की तैयारी में है. सूत्रों के मुताबिक वह अपने समर्थक विधायकों को गोवा लेकर जा रहे हैं. 

सूत्रों के मुताबिक अजित पवार के समर्थक विधायकों के साथ धनजंय मुंडे भी हैं. इन्हें एक प्राइवेट चार्टर प्लेन के जरिए गोवा ले जाया जाएगा. 

वहीं एनसीपी नेता अजित पवार (Ajit Pawar) और उनके समर्थक विधायकों से के समर्थन से बीजेपी सरकार बनने के बाद कांग्रेस (Congress) भी सतर्क हो गई है. कांग्रेस ने अपने सारे विधायकों को महाराष्ट्र से बाहर भेजने का फैसला किया है.  सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस अपने विधायकों को शाम 5 बजे की फ्लाइट भोपाल लेकर जाएगी. 

बता दें महाराष्ट्र (Maharashtra)  की राजनीति में शनिवार सुबह वह हुआ जिसकी किसी ने कल्पना तक नहीं की थी. शुक्रवार रात तक जहां कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना की सरकार बनने बनती दिख रही थी लेकिन जब सुबह देश के लोग उठे तो उन्होंने देवेंद्र फडणवीस को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और एनसीपी नेता अजित पवार को डिप्टी सीएम का पद की शपथ लेते हुए देखा.

शपथ ग्रहण के बाद देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि भाजपा के साथ गठबंधन में स्पष्ट बहुमत पाने वाली शिवसेना ने चुनाव के बाद जनादेश खारिज कर दिया. उन्होंने कहा कि शिवसेना कुछ अन्य दलों के साथ सरकार बनाने की कोशिश करने लगी, जिसके कारण राज्य में राष्ट्रपति शासन लग गया.

हालांकि, इन तीन दलों के लिए खिचड़ी सरकार बनाना और संभव नहीं दिखा और राज्य में स्थाई सरकार देने के लिए कोई निर्णय नहीं लिया जा सका. फडणवीस ने कहा, "अजीत पवार और अन्य के समर्थन से हमने राज्यपाल को एक सूची भेजी, जिन्होंने इस पर निर्णय लेने के लिए केंद्र से चर्चा की."

वहीं अजीत पवार ने कहा कि मौजूदा समय में स्थाई सरकार बनाने की जरूरत है जो बनती प्रतीत नहीं हो रही थी. उन्होंने कहा, "मैं सरकार बनाने के लिए लगातार हो रही वार्ताओं से थक गया था और इसीलिए मैंने फडणवीस के साथ जाकर राज्य को स्थाई सरकार बनाने का निर्णय लिया."