close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शक्ति युवा एप पर हुई प्रतियोगिता में जीते 10 लोगों को अलवर कलेक्टर ने किया सम्मानि

गांधी जयंती के मौके पर गांधी को जानो प्रतियोगिता इसी एप के माध्यम से कराई. जिसमें विजेता रहे दस प्रतिभागियों को आज सम्मानित किया गया. 

शक्ति युवा एप पर हुई प्रतियोगिता में जीते 10 लोगों को अलवर कलेक्टर ने किया सम्मानि

अलवर: गांधी जयंती के मौके पर मनाए गए सप्ताह कार्यक्रम में अलवर में शक्ति युवा एप के माध्यम से गांधी जी को जानो पर ऑनलाइन प्रतियोगिता का आयोजन कराया गया. इसमें गांधी जी पर आधारित ही प्रश्न थे. इसमें करीब 600 से ज्यादा लोगोम ने भाग लिया. इसमे विजेता रहे दस प्रतिभागियों को जिला कलेक्टर ने सम्मानित किया. साथ ही इस दौरान आइकन के रूप में उषा वाल्मीकि का सम्मान किया गया.

अलवर जिला कलेक्टर द्वारा चलाए जा रहे अलवर शक्ति अभियान के तहत शक्ति एप के माध्यम से ब्लॉक स्तर से पंचायत स्तर तक पहुंच कर युवाओं को एक नई राह देने का प्रयास किया जा रहा है. सभी ब्लॉक में स्थित आईटीआई को शक्ति केंद्र बनाए गए हैं. साथ ही सभी 512 पंचायतों पर भी सेवा केंद्र स्थापित किए गए हैं. साथ ही लगातार युवा चौपाल भी लगाई जा रही है. इसमें युवाओं के स्किल्स को पहचान कर उसे स्वरोजगार के लिए भी रास्ते दिए जाने का प्रयास किया जा रहा है. 

युवाओं को इस बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी देने के लिए एप गुरु इमरान खान द्वारा बनाए गए एप में ऑनलाइन टेस्ट, प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी से लेकर मुद्रा लोन सहित प्रशासनिक अधिकारियों के मोबाइल नम्बर और मेल आईडी भी उपलब्ध है. अब तक करीब 40 हजार लोग इस एप से जुड़ चुके हैं. पिछले दिनों गांधी जयंती के मौके पर गांधी को जानो प्रतियोगिता इसी एप के माध्यम से कराई. जिसमें विजेता रहे दस प्रतिभागियों को आज सम्मानित किया गया. 

युवा शक्ति के तहत समाज मे अपनी विशेष पहचान रखने वालों को भी आइकन के रूप में आगे लाया जा रहा है. जिससे और लोग उनसे प्रेरणा ले सकें. पिछले दिनों यूएन से चेंजमेकर का अवॉर्ड प्राप्त कर चुकी थानागाजी के हिंसला गांव निवासी पायल जांगिड़ का भी जिला कलेक्टर ने सम्मान किया और ब्रांड एम्बेसडर के रूप उन्हें अलवर शक्ति प्रोजेक्ट से जोड़ा. आज ऐसी ही एक अन्य शख्सियत उषा चांवर का सम्मान किया गया. उषा वाल्मीकि समाज से हैं और मैला ढोने की कुप्रथा से बाहर निकल कर आज एक संस्था के माध्यम से अपना रोजगार चला रही हैं. हाल ही में उषा अमिताभ बच्चन के कौन बनेगा करोड़पति के शो में भी शिरकत कर चुकी हैं. आज जिला कलेक्टर ने उनका भी सम्मान किया.