राजस्थान: सियासी संकट के बीच विधायकों ने मनाई बकरीद, होटल में ही अदा की गई नमाज

राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच प्रदेश की गहलोत सरकार ने अपने सभी विधायकों को जैसलमेर से 15 किलोमीटर दूर सुनसान इलाके में स्थित सूर्यगढ़ होटल में शिफ्ट कर दिया है.

राजस्थान: सियासी संकट के बीच विधायकों ने मनाई बकरीद, होटल में ही अदा की गई नमाज

जयपुर: राजस्थान (Rajasthan) में जारी सियासी संकट के बीच प्रदेश की गहलोत सरकार ने अपने सभी विधायकों को जैसलमेर (Jaisalmer) से 15 किलोमीटर दूर सुनसान इलाके में स्थित सूर्यगढ़ होटल (Suryagarh Hotel) में शिफ्ट कर दिया है. आज त्योहार के मौके पर सभी विधायकों ने होटल में ईद मनाई और ईद की नमाज अदा की. वहीं बाकी विधायकों ने भी स्वर्णनगरी से ही सूर्यदेवता को नमन किया.

सुबह जहां विधायकों ने होटल की जिम में व्यायाम और योगा कर अपने दिन की शुरुआत की तो वहीं कुछ विधायक होटल में ही बनी गौशाला और घुड़साल में गायों को घास खिलाते व घोड़ों को सहलाते हुए नजर आए. इसके बाद सभी विधायक होटल के लॉन में इकट्ठा हुए और आगामी रणनीति को लेकर बैठक की. 

बताते चलें कि जैसलमेर शुरुआत से ही प्रदेश सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) की पसंदीदा जगहों में से एक रही है. चाहे सत्ता में हो या विपक्ष में या फिर संकट में सीएम गहलोत ने जैसलमेर की भारत-पाक सीमा पर स्थित तनोट माता मंदिर में सदैव आस्था जताई है. ऐसे में इस सियासी संकट से उबरने के लिए ये कयास लगाए जा रहे हैं कि गहलोत अपने विधायकों के साथ सरहदी तनोट माता मंदिर जा सकते हैं. 

ये भी पढ़ें:- जानिए 5 का पराक्रम जिससे दहशत में हैं पीएम इमरान, पूरे पाकिस्तान में सिर्फ इसकी ही चर्चा

गौरतलब है कि राज्यपाल द्वारा 14 अगस्त को विधानसभा सत्र की अनुमति के बाद गहलोत के सामने 13 तारीख तक विधायकों को एकजुट रखना बड़ी चुनौती है. वहीं सचिन पायलट की चुप्पी भी कई सवाल खडे़ कर रही है. ऐसे में गहलोत ने अपने विधायकों के बिखराव के भय के चलते उन्हें जैसलमेर से 15 किलोमीटर दूर सुनसान इलाके में स्थित सूर्यगढ होटल में लाकर रखा है. अब देखना यह होगा कि जयपुर से शुरू हुए सियासी संकट का हल क्या सरहदी जिले जैसलमेर में निकल सकता है?

LIVE TV