close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झुंझुनूं में Plastic Free थीम वाले अमृता हाट मेले का शुभारंभ, लगी है 135 स्टॉल

महिलाओं के स्वयं सहायता समूहों(Self Help Groups) को बढ़ावा देने के लिए एक बार फिर झुंझुनूं(Jhunjhunu)में इस मेले का आयोजन शुरू हो गया है. 

झुंझुनूं में Plastic Free थीम वाले अमृता हाट मेले का शुभारंभ, लगी है 135 स्टॉल
झुंझुनूं में अमृता हाट बाजार का उद्घाटन करते जिला कलेक्टर रवि जैन.

संदीप केडिया, झुंझुनूं: महिलाओं के स्वयं सहायता समूहों(Self Help Groups) को बढ़ावा देने के लिए पूरे प्रदेश में ही नहीं, बल्कि देशभर में अमृता हाट का आयोजन किया जाता है. एक बार फिर झुंझुनूं(Jhunjhunu) में इस मेले का आयोजन शुरू हो गया है. 

खास बात यह है कि राष्ट्रीय अमृता हाट बाजार में भी जहां 100 से ज्यादा स्टालें नहीं लगती. वहीं, इस बार झुंझुनूं के मेले में 135 के करीब स्टॉलें लगाई गई है और राजस्थान(Rajasthan) के अलावा यूपी(Uttar Pradesh) और हरियाणा(Haryana) की भी महिलाएं अपने हाथों से सामान बनाकर उन्हें बेचने के लिए पहुंची है. साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) के प्लास्टिक फ्री संदेश को भी अमृता हाट में साकार किया जाएगा.

यहां अमृता हाट का शुभारंभ जिला कलेक्टर रवि जैन ने किया. इस दौरान कलेक्टर ने खुद सभी स्टॉलों का अवलोकन किया और वे खुद भी महिलाओं द्वारा बनाई गई चीजों से आकर्षित नजर आए. 

उन्होंने खुशी जताई कि इस बार 135 के करीब स्टॉल लगाई गई है. साथ ही उन्होंने विश्वास जताया है कि इस बार गत वर्ष के मुकाबले भी बिक्री भी बढ़ेगी. 

उन्होंने बताया कि इस बार मेले की थीम प्लास्टिक फ्री रखी गई है. मेले में किसी भी प्रकार की सामग्री कोई भी प्लास्टिक के कैरी बैग में नहीं दी जाएगी. इसके लिए भामाशाहों की मदद से कपड़े और कागज के थैले फ्री उपलब्ध करवाए गए है.

हरियाणा और यूपी से भी आईं महिलाएं
इस बार मेले में ना केवल राजस्थान(Rajasthan)के कोने-कोने से महिलाएं अपने समूहों के बनाए गए सामान की प्रदर्शनी करेगी. बल्कि उनकी बिक्री भी करेगी. झुंझुनूं में अमृता हाट की चर्चा सुनकर पास के हरियाणा और यूपी की महिलाएं भी झुंझुनूं पहुंची है. 

महिला अधिकारिता विभाग के उप निदेशक विप्लव न्यौला ने बताया कि शहर के लोगों को इस मेले को लेकर आकर्षित करने के लिए झूले और चटपटी स्टॉलों की व्यवस्था की गई है. साथ ही हर दिन शाम को सांस्कृतिक और मनोरंजक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जाएगा.

राज्य स्तरीय मेले के रिकॉर्ड तोड़ने की संभावना
महिला अधिकारिता विभाग के उप निदेशक विप्लव न्यौला ने बताया कि चार साल पहले इस अमृता हाट का शुभारंभ महज आठ स्टॉलों के साथ किया गया था और चंद दिनों के लिए यह मेला लगाया गया था. लेकिन अब चार साल में ही इसमें स्टॉलों की संख्या आठ से बढ़कर 135 तक पहुंच गई है. साथ ही मेले के दिनों की संख्या तो राष्ट्रीय मेलों से भी आगे बढ़ गई है. इस बार शहर के लोगों की डिमांड को देखते हुए 15 दिन के लिए लगाया जा रहा है. साथ ही उनका दावा है कि जयपुर में लगने वाले राज्य स्तरीय मेलों के बराबर इस बार इसकी बिक्री भी ले जाने की कोशिश की जा रही है.