ओडिशा में BJP की जेब में BJD तो बीजेडी की जेब में कांग्रेस : केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि तीन बड़ी पार्टियों का ‘अदृश्य गठबंधन’ है और वे एक- दूसरे का विरोध नहीं करतीं

ओडिशा में BJP की जेब में BJD तो बीजेडी की जेब में कांग्रेस : केजरीवाल
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)

भुवनेश्वर: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को आरोप लगाया कि ओडिशा में नवीन पटनायक के नेतृत्व वाली राज्य सरकार लगातार सत्ता में इसलिए बनी हुई है क्योंकि ‘लूट का माल बटोरने’ के लिये बीजेडी, बीजेपी और कांग्रेस ने हाथ मिला लिया है. वह पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीकांत जेना द्वारा गठित ‘सामाजिक न्याय अभिजन’ की सभा को संबोधित कर रहे थे. जेना को हाल में कांग्रेस से निष्कासित कर दिया गया था.

अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि तीन बड़ी पार्टियों का ‘अदृश्य गठबंधन’ है और वे एक- दूसरे का विरोध नहीं करतीं जिसके कारण खनिज एवं प्राकृतिक संपदा से समृद्ध होने के बावजदू यह राज्य विकास के मोर्चे पर नाकाम रहा. आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक ने आरोप लगाया,‘लूट का माल बटोरने में ये सभी साझेदार हैं, जिसके कारण राज्य में कोई वास्तविक विपक्ष नहीं है.’

'ओडिशा में राज्य सरकार के सामने कोई विपक्ष नहीं है'
अरविंद केजरीवाल ने कहा,‘यहां ओडिशा में राज्य सरकार के सामने कोई विपक्ष नहीं है. राज्य में लंबे समय से बीजू जनता दल (बीजेडी) का शासन रहा है. लेकिन बीजेडी, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की जेब में है और राज्य में कांग्रेस बीजेडी की जेब में है.’ इस मौके पर केजरीवाल के साथ पार्टी सांसद संजय सिंह भी थे. ओडिशा में 2000 से नवीन पटनायक की सरकार है. 

AAP समाजिक न्याय अभिजन के साथ मिलकर लड़ सकते हैं चुनाव
इस बीच, सूत्रों ने बताया कि ओडिशा में आम आदमी पार्टी जेना के सामाजिक न्याय अभिजन के साथ मिलकर लोकसभा और विधानसभा चुनाव लड़ सकती है.इस साल लोकसभा चुनाव के साथ ओडिशा में विधानसभा चुनाव भी होने वाले हैं.

जेना ने घोषणा की कि वह राज्य में केजरीवाल का समर्थन करेंगे. कांग्रेस के निष्कासित नेता ने कहा कि आप में शामिल होना ‘‘पाप’’ नहीं है और इस सवाल पर चुप रह गए कि क्या आगामी चुनाव वह आप के टिकट पर लड़ेंगे.

केजरीवाल ने कहा कि लोगों को निश्चित रूप से यह फैसला करना होगा कि वे ‘खनन राज’ चाहते हैं या ‘जनता राज’ चाहते हैं.

(इनपुट - भाषा)