close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: एक मंच पर साथ दिखें CM अशोक गहलोत और सचिन पायलट, कयासों पर लगेगा विराम?

वैसे राजस्थान में कांग्रेस में सचिन पायलट और गहलोत के बीच की राजनीतिक अवादत की कहानी काफी पुरानी रही है. लेकिन जयपुर में एक कार्यक्रम के दौरान जब दोनों एक साथ दिखें तो....

राजस्थान: एक मंच पर साथ दिखें CM अशोक गहलोत और सचिन पायलट, कयासों पर लगेगा विराम?
जयपुर के बिड़ला सभागार में कार्यक्रम के दौरान गहलोत और पायलट. (फोटो साभार: Twitter)

जयपुर: कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट एक मंच पर नजर आए. इस दौरान दोनों दिग्गज नेताओं ने दो बार 'हम साथ-साथ हैं' का संदेश देकर अनबन और गुटबाज़ी की अटकलों पर विराम लगाने की कोशिश की.

मौका प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग के तैयार किए गए जन सूचना पोर्टल-2019 की लॉन्चिंग का था. जयपुर के बिड़ला सभागार में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने इसे लॉन्च किया.

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच अनबन और गुटबाज़ी की अटलकें परवान पर हैं. इस बीच गहलोत और पायलट ने एक नहीं बल्कि दो बार एकजुटाता का सन्देश देकर इन अटकलों पर विराम लगाने की कोशिश की. गहलोत-पायलट की जोड़ी का एक ही दिन में दो-दो बार सन्देश देना न सिर्फ कांग्रेस खेमे में बल्कि राजनीतिक गलियारों में भी चर्चा का विषय बना रहा.

लाइव टीवी देखें-:

प्रदेश कांग्रेस में कांग्रेस की गुटबाज़ी की चर्चा के बीच आम लोगों की निगाहें इस कार्यक्रम पर थी. गहलोत-पायलट की जोड़ी कई दिनों के बाद एक ही समारोह में मंचा साझा कर रही थी. इस दौरान पोर्टल लॉन्च होते समय सीएम गहलोत ने डिप्टी सीएम पायलट को अपने नज़दीक बुलाया और साथ में बटन दबाकर पोर्टल को लॉन्च किया.

जानकारी के अनुसार पायलट की फ्लाइट दोपहर डेढ़ बजे की थी. जबकि सीएम गहलोत का स्टेट प्लेन से जाने का कार्यक्रम था. बाद में दोनों के बीच हुई बातचीत के बाद पायलट ने गहलोत संग स्टेट प्लेन में जाने का इरादा बना लिया.गहलोत-पायलट ने अपनी जोड़ी के बीच 'सब ठीक है' का दूसरा सन्देश एक ही प्लेन से साथ में जयपुर से दिल्ली जाकर दिया.

बताया जाता है कि गहलोत की दिल्ली रवानगी से ठीक पहले अचानक से कार्यक्रम में बदलाव हुआ और गहलोत अकेले जाने के बजाये सचिन पायलट के साथ रवाना हुए.