Breaking News
  • #ImmunityConclaveOnZee : केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि कोरोना की दवा पर शोध जारी है.
  • #ImmunityConclaveOnZee : श्रीपद नाइक ने कहा - 6-7 सप्ताह में शोध पूरा हो जाएगा.
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '8 बजे नाश्ता, 12 बजे दोपहर का खाना, शाम को 8 बजे तक खाना खा लें'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, 'भगवान ने हमें इंसान बनाकर दुनिया की सबसे बड़ी दौलत दी है'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '6 घंटे की नींद जरूर पूरी करें और उससे ज्यादा सोएं भी नहीं'

अब घोड़ों के मुंह में नहीं लगाई जा सकेगी नुकीली लगाम, जानिए क्‍यों?

नुकीले लगाम वे उपकरण होते हैं जिन्हें अक्सर घोड़ों को नियंत्रित करने के लिए उनके मुंह में लगाया जाता है.

अब घोड़ों के मुंह में नहीं लगाई जा सकेगी नुकीली लगाम, जानिए क्‍यों?

गुवाहाटी: असम सरकार ने घोड़ों के मुंह में लगाए जाने वाले नुकीले लगाम के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है और पशु चिकित्सा अधिकारियों को भारवाहक पशु क्रूरता निवारण नियम, 1965 के प्रावधानों के तहत प्रतिबंध को लागू करने का निर्देश दिया है. एक अधिकारी ने यह जानकारी दी.

नुकीले लगाम वे उपकरण होते हैं जिन्हें अक्सर घोड़ों को नियंत्रित करने के लिए उनके मुंह में लगाया जाता है. ऐसी लगाम में नुकीले धातु लगे होते हैं, जो उससे बाहर चिपके रहते हैं और इन्हें ‘‘कांटेदार लगाम’’ भी कहा जाता है.

पशुपालन और पशु चिकित्सा विभाग के सचिव देवज्योति हजारिका ने हाल ही में जिला पशु चिकित्सा अधिकारियों को एक आदेश जारी किया है, जिसमें यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि किसी भी जानवर को नियंत्रित करने के लिए किसी नुकीले उपकरण का उपयोग नहीं किया जाए.

पीपुल फॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स (पेटा) इंडिया ने मंगलवार को एक विज्ञप्ति में कहा कि सरकार ने पशु अधिकार संगठन की अपील के बाद कार्रवाई की, जिसमें बताया गया है कि असम में घोड़ों को नियंत्रित करने के लिए इस्तेमाल किए जा रहे धातु के नुकीले लगाम पर भारवाहक पशु क्रूरता निवारण नियम, 1965 के नियम 8 के तहत प्रतिबंध लगाया गया है.

इनपुट: भाषा

ये भी देखें: