close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बारां: किसानों की फसल पर शुरु हुई राजनीति, बीजेपी विधायक ने रखी यह मांग

ग्राम पंचायत भवन में जनसुनवाई करने पंहुचे विधायक को लोगों ने बताया कि उनकी मेहनत पर पूरी तरह पानी फिर गया. अनाज तक खराब हो गए. 

बारां: किसानों की फसल पर शुरु हुई राजनीति, बीजेपी विधायक ने रखी यह मांग
आर्थिक रुप से किसानों पर दोहरी मार पड़ी है.

राम मेहता/बारां: पूरे राजस्थान में भारी बारिश के कारण खेतों में खड़ी फसलों को खासा नुकसान पहुंचा है. किसानों को अब सरकार से ही उम्मीद है कि वह उनके फसलों के मुकसान की भरपाई करेगी. वहीं, अब इस मामले को लेकर पूरे प्रदेश में राजनीति भी शुरु हो गई है. इसी कड़ी में बारां के छबड़ा के क्षेत्रीय विधायक प्रतापसिंह सिंघवी ने छीपाबडौद क्षेत्र में पंहुचकर अतिवृष्टि प्रभावित किसानों की पीड़ा सुनी. साथ ही उन्होने किसानों की राहत के लिए सरकार से शीघ्र मुआवजा दिलाने की मांग की.

ग्राम पंचायत भवन में जनसुनवाई करने पंहुचे विधायक को लोगों ने बताया कि उनकी मेहनत पर पूरी तरह पानी फिर गया. अनाज तक खराब हो गए. जिससे आर्थिक रुप से किसानों पर दोहरी मार पड़ी है. मदद की आस में पंहुचे किसानों को उन्होने भरोसा दिलाते हुए सरकार से मुआवजा राशी का वितरण शीघ्र कराने की मांग की. यहां तक कि एक किसान ने अतिवृष्टि के कारण खेत में खड़ी मक्का के भुटटों में अंकुरित हुए दानों को लाकर भी खराबे की स्थिति से दिखाया.

साथ ही, जनता के बीच आए विधायक प्रतापसिंह सिंघवी को लोगों ने और समस्याओं से भी रुबरू करवाया. जनसुनवाई के दौरान रेगर बस्ती के लोगों ने भी पंहुचकर पेयजल की सालों पुरानी समस्या पर चर्चा की. गांव के लोगों ने भी गांव की सड़क नहीं होने की बात कही. वहीं नेता जी ने उच्चाधिकारियों से बात कर समाधान करवाने का भरोसा दिलाया.

पथरी गांव में लोगों के घरों में पानी भरने से अनाज खराब होने से लोगों के सामने आई परेशानी से जिला कलक्टर को फोन पर ही अवगत करवाकर शीघ्र राहत दिलाने की मांग की. इसके अलावा कस्बे की बिजली व्यवस्था की बदहाली को लेकर मिली शिकायत पर डिस्कॉम के उच्चाधिकारियों को अवगत करवाकर सुधार के निर्देश दिए. साथ ही दीवाली से पहले क्षेत्र की बदहाल सड़कों की मरम्मत कराने की भी मांग की.

विधायक प्रताप सिंह का कहना है की कोटा जिले में मुआवजा जल्दी बंट सकता है तो फिर बारां जिले के गांवों में क्यों नहीं. किसानों को राहत दशहरे से पहले ही दी जाए ताकि समय पर रबी की बुवाई की तैयारिंयां कर सकें. किसानों को फसल खराबें का मुआवजा की मांग को लेकर मुख्यमंत्री का पत्र लिखकर शीघ्र मुआवजा देने की मांग की है.