close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बीकानेर के छात्रों ने किया कमाल, कृषि सुधार के लिए वैज्ञानिक मॉडल किए तैयार

डांडुसर जैसे एक छोटे से ग्रामीण इलाक़े में मौजूद सरकारी स्कूल के इन सात छात्रों ने कड़ी मेहनत कर पूरी लगन के साथ कई आविष्कार किए हैं. जो प्रदेश के लिए किसी मिसाल से कम नहीं हैं. 

बीकानेर के छात्रों ने किया कमाल, कृषि सुधार के लिए वैज्ञानिक मॉडल किए तैयार

बीकानेर: जिले के डांडुसर गांव के राजकीय स्कूल के सात छात्रों ऐसे कारनामे करके दिखाए हैं. जिससे हर कोई हैरान है. एक ही स्कूल में पढ़ने वाले सात छात्रों ने पानी पर चलने वाली साइकिल से लेकर कृषि के अनोखे मॉडल तैयार किए हैं जिनकी काफी तारीफ हो रही है.

डांडुसर जैसे एक छोटे से ग्रामीण इलाक़े में मौजूद सरकारी स्कूल के इन सात छात्रों ने कड़ी मेहनत कर पूरी लगन के साथ कई आविष्कार किए हैं. जो प्रदेश के लिए किसी मिसाल से कम नहीं हैं. इन छात्रों की तरफ से बनाए गए इन मॉडल्स को विज्ञान मेले में प्रदेश स्तर के किए चयनीत भी किया गया है. 

1. इकोफ्रेंडली चूल्हा
11वीं क्लास में पढ़ने वाले रतनाराम मेघवाल ने इस इकोफ्रेंडली चूल्हे को तैयार किया है. यह चूल्हा पर्यावरण हितैषी होने के साथ साथ ये लोगों के स्वास्थ्य का सरंक्षण भी करता है. इस चूल्हे में ईंधन की खपत कम होती है साथ ही धुंआ बहुत ही कम बनता है. इसे चलाने के लिए सौर ऊर्जा का इस्तेमाल किया गया है.

2. एडवांस एग्रीकलचर सिस्टम
11वीं क्लास के छात्र अशोक गोदारा ने एडवांस एग्रीकलचर सीस्टम तैयार किया है. इससे बारिश के पानी को वैज्ञानिक तरीके से एक ऊंचे स्थल पर इकट्ठा करके टरबाइन पर प्रवाहित किया जाता है. जिससे बिजली का उत्पादन होता है और फिर इस वर्षा जल से सिंचाई की जाती है. जिससे पानी की खपत कम होती है. इस सिस्टम में किसानों के भीगे अनाज को सुखाने के लिए solar drier भी है जो सौर ऊर्जा से चलता है.

3. स्मार्ट स्वीमिंग बाइसाइकिल
इसी क्रम में नौवीं क्लास मे पढ़ने वाले छात्र हरीश डोगीवाल ने स्मार्ट स्वीमिंग बाइसाइकिल बनाई है. यह अत्याधुनिक bicycle आरकेमिडीज के सिद्धांत पर काम करती है जो पानी में चल सकती है.

4. स्मोग सेफ्टी सिस्टम
इस स्मौग सेफ्टी सिस्टम को सातवीं क्लास के रामकुमार ने तैयार किया है. इसमे infrared sensor का इस्तेमाल किया गया है जो कि घने कोहरे, कम रौशनी और रात के समय रास्ते में आने वाले किसी भी अवरोध का आभास ड्राइवर को करवा कर होने वाली दुर्घटना को टालने में सहायक है.

5. नेचुरल वॉटर प्यूरीफायर
इसी कड़ी में सातवीं क्लास में पढ़ने वाले छात्र रमेश कुमार ने Natural water purifier बनाया है. जिसकी हर ओर सराहना की जा रही है.

6. स्मोक रिमूवल सिस्टम
ये मॉडल नौंवी क्लास के छात्र श्रीभगवान ने बनाया है. यह उपकरण आग लग जाने पर या कारखानों में निर्मित धुएं का निस्तारण कर उसे पेड़ पौधों वाले स्थान में छोड़ने का काम करता है.

7. घरेलू आपदा प्रबंधन मॉडल
आठवीं क्लास के छात्र विकास शर्मा ने घरेलू आपदा प्रबंधन के तहत ये सिस्टम बनाया है. जो प्राक्रतिक आपदा जैसे भूकंप, तूफान, चक्रवात, आग लगने पर घर के सदस्यों को संकेत देकर अलर्ट कर देता है. जिससे जनहानि से बचाया जा सकता है.

इलाके में रहने वाले लोग छोटे से गाँव में एक ही जगह इतने प्रतिभाशाली छात्र अपने आप में बेमिसाल और प्रेरणा दायक बता कर गौरान्वित महसूस कर रहे हैं. ऐसे में अगर इन सभी कारनामों को धरातल पर उतारा जाए तो न जाने कितना कुछ परिवर्तित किया जा सकता है.