close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र में तमाम उठापटक के बावजूद बीजेपी सरकार बनाने के लिए आश्वस्त

अगर 8 तारीख तक किसी की सरकार नहीं बनती है और अगर राज्यपाल सबसे बड़े दल के तौर पर बीजेपी को सरकार बनाने के लिये बुलाते है, तो उस परिस्थिति में पार्टी सभी बड़े नेताओं से विचार विमर्श करने के बाद तय करेगी की सरकार बनानी है या नहीं.

महाराष्ट्र में तमाम उठापटक के बावजूद बीजेपी सरकार बनाने के लिए आश्वस्त
बीजेपी निर्दलीय और छोटी पार्टियों के साथ 121 विधायक होने का दावा कर रही है (फाइल फोटो)

मुंबई: महाराष्ट्र में तमाम उठा पटक के बीच बीजेपी सरकार बनाने को लेकर पूरी तरह आश्वस्त है. शिवसेना के कड़े तेवर को देखते हुए वेट एंड वॉच की नीति पर चल रही बीजेपी को आज भरोसा हो गया कि महायुति की ही सरकार बनेगी. कांग्रेस का सेना के साथ किसी तरह के सम्बन्ध नहीं रखने की खबर और शरद पवार का आज का बयान, सेना की उम्मीदों पर तुषारापात की तरह माना जा रहा है. फिर भी" सूत्रों के अनुसार बीजेपी महाराष्ट्र में बिना बहुमत की सरकार बनाने का दावा पेश नहीं करेंगी. 

बीजेपी निर्दलीय और छोटी पार्टियों के साथ 121 विधायक होने का दावा कर रही है, जो बहुमत से काफी कम है. इसलिय पार्टी ने फैसला किया है कि अपनी तरफ से अल्पमत की सरकार का दावा नहीं करेगी. लेकिन अगर 8 तारीख तक किसी की सरकार नहीं बनती है और अगर राज्यपाल सबसे बड़े दल के तौर पर बीजेपी को सरकार बनाने के लिये बुलाते है, तो उस परिस्थिति में पार्टी सभी बड़े नेताओं से विचार विमर्श करने के बाद तय करेगी की सरकार बनानी है या नहीं.

महाराष्ट्र में सरकार के गठन की अंतिम तारीख़ 8 नवम्बर हैं . 2014 में बीजेपी बहुमत नहीं होने के बावजूद सरकार बनाने का दावा पेश किया था और एनसीपी ने वॉकआउट करके परोक्ष रूप से बीजेपी का समर्थन किया था . सरकार बनने के बाद शिवसेना ने बीजेपी का समर्थन किया था और सरकार में शामिल हुई थी.

बीजेपी नेतृत्व चाहता हैं कि जिस तरह से शिवसेना ने बातचीत का सिलसिला बंद किया था, उसी तरह से शिवसेना ही बातचीत शुरू करने की पहल भी करे. वैसे 8 नवंबर तक अगर सरकार बन जाती है तो शपथ ग्रहण समारोह बड़े पैमाने पर किया जायेगा.