बीजेपी MLA का बकरीद पर विवादित बयान, बोले 'कुर्बानी देनी है, तो अपने बच्चों की दें'

नंद किशोर गुर्जर ने कहा कि जिस प्रकार से लोगों ने कोरोना पर सरकार द्वारा जारी नियमों का पालन किया है, मस्जिद में नमाज और मंदिरों में पूजा नहीं की है. वैसे ही इस बार बकरीद के मौके पर कुर्बानी ना दें क्योंकि इससे कोरोना फैलने का खतरा है.

बीजेपी MLA का बकरीद पर विवादित बयान, बोले 'कुर्बानी देनी है, तो अपने बच्चों की दें'
(फाइल फोटो)

कुलदीप सिंह, गाजियाबाद: मुस्लिमों के मुख्य त्यौहार बकरीद (Bakrid) पर बकरा या अन्य जानवर काटकर कुर्बानी देने रिवाज है. इस बार बकरीद संभवत: 31 जुलाई को मनाई जाएगी. इस बीच बकरीद पर दी जाने वाली जानवारों की कुर्बानी पर लोनी से बीजेपी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने विवादित बयान दिया है. उन्होंने बकरीद के मौके पर कुर्बानी देने वालों को सीधी चेतावनी देते हुए कहा कि जिसे भी कुर्बानी देनी है वो अपने बच्चों की कुर्बानी दे. मांस खाने से कोरोना फैलता है ऐसे में लोनी में बकरीद पर कुर्बानी नहीं होने देंगे.

नंद किशोर गुर्जर ने कहा कि बकरीद पर मुस्लिम समाज से कुर्बानी नहीं करने की अपील की गई है. जिस प्रकार से लोगों ने कोरोना पर सरकार द्वारा जारी नियमों का पालन किया है, मस्जिद में नमाज और मंदिरों में पूजा नहीं की है. वैसे ही इस बार बकरीद के मौके पर कुर्बानी ना दें क्योंकि इससे कोरोना फैलने का खतरा है. 

उन्होंने कहा कि पहले सनातन धर्म में भी बलि दी जाती थी लेकिन अब सिर्फ नारियल फोड़ कर चढ़ाया जाता है. वैसे ही मुस्लिम समुदाय के लोग भी कुर्बानी ना दें. गाजियाबाद प्रशासन से भी कुर्बानी रोकने की अपील करेंगे और लोनी में एक भी कुर्बानी नहीं देने देंगे. 

ये भी पढ़े- गाजियाबाद: सूटकेस में मिली युवती की लाश की हुई पहचान, ससुराल वालों पर हत्या का शक

हालांकि इससे पहले संभल से समाजवादी पार्टी सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने बकरीद पर पशु बाजारों को खोलने और सामूहिक नमाज की इजाजत देने की मांग की थी. उन्होंने कहा था कि सामूहिक नमाज से कोरोना भागेगा.

इसके अलावा बीजेपी विधायक संगीत सोम ने शफीकुर्रहमान को आलू-साग खाकर त्यौहार मनाने की सलाह दी थी. उन्होंने कहा था कि अगर वो बात नहीं मानेंगे तो उन्हें भी सपा सांसद आजम खान की तरह जेल में बकरीद मनानी पड़ेगी.

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.