close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान सरकार के स्टेट टोल टैक्स के विरोध में BJP का प्रदर्शन, कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

यहां आपको बता दें कि आज उदयपुर में भी भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया. कलेक्ट्रेट के बाहर प्रदर्शन करते हुए भाजपा कार्यकर्ताओं ने जम कर नारेबाजी की और टोल वसूली के निर्णय को वापस लेने की मांग की. 

राजस्थान सरकार के स्टेट टोल टैक्स के विरोध में BJP का प्रदर्शन, कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन
कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर स्टेट हाइवे पर टोल नहीं लगाने की मांग की है.

दौसा: राजस्थान सरकार द्वारा स्टेट हाइवे पर फिर से टोल शुरू करने के मामले को लेकर प्रदेशभर के भाजपाई गुस्से में है. दौसा जिला मुख्यालय पर भी भाजपाइयों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर सरकार का पुतला जलाया और जमकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. वहीं कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर स्टेट हाइवे पर टोल नहीं लगाने की मांग की है. भाजपाइयों का कहना है कि पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने स्टेट हाइवे को टोल मुक्त कर प्रदेश की जनता को बड़ी राहत दी थी.  

जिसे अब प्रदेश की सरकार फिर से टोल लागू कर जनता के ऊपर टोल का बोझ लाद ने जा रही है. भाजपाइयों का कहना है कि यह सरकार का फैसला जनहित के खिलाफ है और इसे भाजपा बर्दाश्त नहीं करेगी. सरकार ने टोल लगाने का फैसला वापस नहीं लिया तो भाजपाई आमजन के साथ सड़कों पर उतरेंगे और सरकार के खिलाफ आंदोलन करेंगे. ज्ञापन देने पहुंचे भाजपाइयों की संख्या भी महज एक दर्जन दिखाई दिए. इससे दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी का दावा करने वाली भाजपा की भी असलियत सामने आ गई. दौसा में अक्षर भाजपा के इस तरह ज्ञापन ओर आंदोलनों दौरान भाजपाइयों की संख्या नगण्य ही दिखाई देती है.

यहां आपको बता दें कि आज उदयपुर में भी भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया. कलेक्ट्रेट के बाहर प्रदर्शन करते हुए भाजपा कार्यकर्ताओं ने जम कर नारेबाजी की और टोल वसूली के निर्णय को वापस लेने की मांग की. इस दौरान महापौर चन्द्रसिंह कोठारी सहित पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने धरने को संबोधित कर सरकार पर जम के निशाना साधा.

गौरतलब है कि गहलोत सरकार द्वारा स्टेट लेवल पर टोल दोबारा से वसूले जाने के फैसले के बाद शुक्रवार को बीजेपी ने धरना प्रदर्शन करने की चेतावनी दी थी. जिसके बाद शनिवार से ही प्रदेश के अलग अलग हिस्सों में बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदर्शन कर गहलोत सरकार के इस फैसले का विरोध किया जा रहा है.