बसपा विधायकों ने यह कदम अपने क्षेत्र में विकास कार्यों के लिए उठाया है: सचिन पायलट

 सचिन पायलट ने यह भी कहा कि बसपा के सभी विधायकों ने बिना किसी कंडीशन और शर्त के कांग्रेस पार्टी ज्वाइन की है यह बड़ी बात है.

बसपा विधायकों ने यह कदम अपने क्षेत्र में विकास कार्यों के लिए उठाया है: सचिन पायलट
पायलट ने कहा कि निकाय और पंचायत चुनाव में इससे पार्टी को लाभ होगा.

जयपुर: बसपा के 6 विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने के कदम का प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने स्वागत किया है. अपने आवास पर जनसुनवाई कार्यक्रम में मीडिया से बात करते हुए सचिन पायलट ने कहा कि बसपा विधायकों ने राजस्थान के हित में और अपने क्षेत्र में विकास कार्यों के लिए यह कदम लिया है. इससे कांग्रेस पार्टी को मजबूती मिलेगी. निकाय और पंचायत चुनाव में इससे पार्टी को लाभ होगा. 

साथ ही सचिन पायलट ने यह भी कहा कि बसपा के सभी विधायकों ने बिना किसी कंडीशन और शर्त के कांग्रेस पार्टी ज्वाइन की है यह बड़ी बात है. पायलट ने कहा कि उनकी जनसुनवाई में राजस्थान के अलग-अलग जिलों के लोग अपनी समस्याएं लेकर आते हैं. तय समय पर उनकी समस्याओं के समाधान के लिए उन्होंने विशेष कोआर्डिनेशन व्यवस्था कर रखी है. सभी विभागों को समस्याएं भेजी जाती है और समय पर निस्तारण के लिए मॉनिटरिंग भी होती. जिसमें सत्ता और संगठन के तालमेल के लिए कोआर्डिनेशन कमेटी का गठन जल्द होगा. राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के निर्देशों के बाद इस दिशा में काम शुरू कर दिया गया है.

गौरतलब है कि, बहुजन समाज पार्टी के 6 विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने को लेकर बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पुनिया ने सवाल उठाया है. पुनिया ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच असंतोष और अंतर्दवन्द्ध करार दिया. सतीश पुनिया ने कहा है कि कांग्रेस के कई वरिष्ठ विधायक पहले से नाराज हैं. प्रदेश में बहुजन समाजवादी पार्टी कांग्रेस के लिए जुगाड़ बन चुकी है. विधायकों के विलय पर प्रतिक्रिया देते हुए पूनिया ने ये भी कहा कि यह अशोक गहलोत के मन की असुरक्षा दिखाता है. 

वहीं इस मामले पर बसपा सुप्रीमो ने भी कांग्रेस पर नाराजगी जताते हुए कहा है कि कांग्रेस ने धोखा किया है. गौरतलब है कि राजस्थान में निकाय और पंचायत चुनाव से पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर से मास्टर स्ट्रोक खेल दिया है. राजस्थान में बहुजन समाज पार्टी के सभी छह विधायक सोमवार को कांग्रेस में शामिल हो गए हैं. अब तक सभी विधायक बाहर से कांग्रेस को समर्थन दे रहे थे. 

वहीं, बसपा के 6 विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने से सरकार के पास अब बहुमत से छह विधायक ज्यादा हो गए हैं. बसपा के सभी विधायक अब तक बाहर से कांग्रेस समर्थन दे रहे थे. बसपा से कांग्रेस में शामिल होने वाले विधायकों में उदयपुरवाटी विधायक राजेंद्र गुड्डा, नदबई विधायक जोगेंद्र सिंह अवाना, नगर विधायक वाजिब अली, करौली विधायक लाखन सिंह मीणा, तिजारा विधायक संदीप यादव और दीपचंद खेरिया का नाम शामिल है.