close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बूंदी: टेंडर दिलाने का वादा कर की लाखों की ठगी, मामला दर्ज

रेलवे का बड़ा टेंडर है जो बूंदी का विस्तार करने की योजना है और प्रधानमंत्री की स्कीम है. इसमें हमारे कहने पर ही काम दिया जाएगा.

बूंदी: टेंडर दिलाने का वादा कर की लाखों की ठगी, मामला दर्ज

बूंदी, संदीप व्यास: शहर में फर्जी रेलवे सेक्रेटरी बन कर ठगी करने का एक मामला सामने आया है. ठगी का तरीका भी इतना सरल बनाया कि स्‍थानिए विधायक को फोन किया और खुद आईएएस अधिकारी और रेलवे का सेक्रेटरी बताते हुए टेंडर देने की बात की है. विधायक ने मना करने पर भी ठगी करने वाले ने विधायक की पहचान वाले का नाम पूछ लिया और दोनों स्थानीय ठेकेदार और फर्जी रेलवे ठेकेदार के झांसे में आ गए. उन्होंने बताए गए बैंक खाते में बीस लाख रूपये डाल दिए जब. मामले की पड़ताल हुई तो समझ में आया कि सब कुछ फर्जीवाडा है और बड़ी ठगी हुई है.

दोनों स्‍थानिए ठेकेदारों ने आनन-फानन में कोतवाली थाने में अप्रेल में हुई ठगी का मामला दर्ज करवाया और पुलिस की मदद से बैंक ट्रांजैक्शन रुकवा कर करीब 11 लाख रूपये बचा लिए. इस दौरान ठगी करने वाले बदमाश ने बैंक से 9 लाख रूपये तो निकला लिए थे. कोतवाली थाना प्रभारी घनश्याम मीणा ने बताया कि विधायक अशोक डोगरा के पास फोन आया था कि दिल्ली से वरिष्ठ आईएएस और रेलवे सेक्रेटरी अमिताभ सिन्हा बोल रहा हूं. 

रेलवे का बड़ा टेंडर है जो बूंदी का विस्तार करने की योजना है और प्रधानमंत्री की स्कीम है. इसमें हमारे कहने पर ही काम दिया जाएगा. विधायक के कहने पर ही ठेकेदार को काम दिया जाएगा लेकिन विधायक ने मना कर दिया. लेकिन किसी मिलने वाले की जानकारी लेकर ठगी करने वाले ने दो स्‍थानिए ठेकेदारा गफुर और अशोक चौधरी को वर्क आर्डर देने की बात कही और दोनों के बीच काफी लंबी वार्ता हुई. 

इस दौरान कमीशन का भी मामला तय हुआ. 50 लाख का कार्य किया जाना बताया गया. इसमें उसने 20 लाख रुपये उसके अकाउंट में डाल दिए. जब साइड दिखाने की बात आई तो फर्जी अधिकारी के बूंदी नहीं आने पर मामले का खुलासा हुआ. इस पर कोतवाली में केस दर्ज कराया गया और तुरंत बैंक से संपर्क कर 11 लाख का ट्रांजैक्शन रुकवाया गया. इससे वह पहले ही 9 लाख निकाल चुका था. फिलहाल मामले में कोतवाली थाना प्रभारी घनश्याम मीणा जांच में जुटे हुए हैं.