close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

खींवसर में उपचुनाव को लेकर सरगर्मी तेज, मैदान में उतरे बीजेपी-कांग्रेस के दिग्गज

नागौर जिले(Nagaur)के खींवसर में होने वाले विधान सभा उपचुनाव(Khinwsar Vidhansabha By Elections 2019) को लेकर अब सरगर्मियां तेज हो गई है.

खींवसर में उपचुनाव को लेकर सरगर्मी तेज, मैदान में उतरे बीजेपी-कांग्रेस के दिग्गज
चुनावी प्रचार के दौरान केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत.

मनोज सोनी, नागौर: नागौर जिले(Nagaur) के खींवसर में होने वाले विधान सभा उपचुनाव(Khinwsar Vidhansabha By Elections 2019) को लेकर अब सरगर्मियां तेज हो गई है. उप चुनाव को लेकर आरएलपी बीजेपी गठबंधन से जुड़े नेताओं की हो या कांग्रेस से जुड़े नेताओं की सभी खींवसर विधान सभा उप चुनाव को लेकर अपनी अपनी ताकत झोंख रहे है.

आपको बता दें कि खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल(Hanuman Beniwal) के नागौर सांसद(Nagaur MP)निर्वाचित होने से खाली हुई थी. अपनी परंपरागत सीट खींवसर को अपने पास रखने के लिए नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने अपने छोटे भाई नारायण बेनीवाल(Narayan Beniwal) पर चुनावी दांव खेलते हुए उन्हे बीजेपी एवं अपनी पार्टी आरएलपी गठबंधन का उम्मीदवार बनाकर चुनावी मैदान में उतार दिया है. 

यह VIDEO भी देखें: खींवसर उप चुनाव में BJP-RLP का कांग्रेस से है सीधा मुकाबला

आगामी 21 अक्टूबर को होने वाले मतदान को लेकर कांग्रेस और आरएलपी दोनों ही चुनावी सभाओं को संबोधित करने में जुटे हुए हैं. एक तरफ़ जहां बीजेपी ने आरएलपी गठबंधन को लेकर खींवसर विधान सभा की सीट को आरएलपी के लिए खाली छोड़ी है. उसके बाद बीजेपी ने खींवसर सीट को एक मिशन के रूप में लिया है. 

चुनावी जीत पक्की करने के लिए बीजेपी के दिग्गज नेता लगातार खींवसर क्षेत्र का दौरा कर रहे है. यहां बीजेपी नेता केंद्रीय जल मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी, पूर्व मंत्री गजेंद्र सिंह खींवसर, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल सहित अनेक दिग्गज नेता लगातार खींवसर क्षेत्र का दौरा करते नजर आ रहे है. 

कल तक की राजनीति में घोर विरोधी माने जाने वाले खींवसर विधान सभा के उप चुनाव में एक मंच पर अपनी बात साझा करते नजर आ रहे है. सभी अपनी अपनी अपनी सीटों पर जातीय समीकरण के बनने बिगड़ने के डर से चुनावी मैदान में डटे हुए है. इसको लेकर आगामी आने वाले दिनो में स्टार प्रचारकों की सभाएं भी होने वाली है. जिसमें आरोप प्रत्यारोप के कसीदे पढ़े जाएंगे.

वहीं, दूसरी ओर कांग्रेस के उम्मीदवार हरेंद्र मिर्धा(Haredra Mirdha) को लेकर भी नेता चुनावी प्रचार में लगे हुए है. इसी के साथ ही सता के साथ रहने वाले मौसमी नेताओं का भी पार्टियों से बगावत का सिलसिला जारी है.