close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

CCD के मालिक वीजी सिद्धार्थ की खुदकुशी पर सियासत तेज, कांग्रेस ने सरकार को ठहराया जिम्मेदार

मशहूर कॉफी चेन कैफे कॉफी डे (CCD) के मालिक और पूर्व विदेश मंत्री एसएम कृष्णा के दामाद वीजी सिद्धार्थ का शव नेत्रावती नदी से बरामद किया गया है. 

CCD के मालिक वीजी सिद्धार्थ की खुदकुशी पर सियासत तेज, कांग्रेस ने सरकार को ठहराया जिम्मेदार
फाइल फोटो

बेंगलुरुः मशहूर कॉफी चेन कैफे कॉफी डे (CaFè CoFFee Day) के मालिक और पूर्व विदेश मंत्री एसएम कृष्णा के दामाद वीजी सिद्धार्थ  की आत्महत्या पर अब सियासत तेज हो गई है. कांग्रेस ने सिद्धार्थ की आत्महत्या के लिए उकसाने के लिए बीजेपी को दोषी करार दिया है. कर्नाटक कांग्रेस के नेता बीके हरिप्रसाद ने कहा है कि केंद्र में बीजेपी की सरकार आने के बाद से सिद्धार्थ को परेशान किया जा रहा था.

कांग्रेस नेता ने कहा, वीजी सिद्धार्थ ने कभी भी दूसरों की तरफ धोखा नहीं दिया है. बिजनेस करने के लिए उनको बहुत परेशान किया जा रहा था. मैं इसके लिए केंद्र की बीजेपी सरकार को दोषी मानता हूं. ये फैशन बन गया है. मोदी के पीएम और अमित शाह के गृह मंत्री बनने के बाद और ज्यादा लोगों को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया है. टैक्स टेररिज्म बंद होना चाहिए. ऐसी घटनाएं और ज्यादा हो इससे पहले इसे रोकना चाहिए.

लोकसभा में कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने वीजी सिद्धार्थ की खुदकुशी का मामला उठाया. तिवारी ने कहा, 'वीजी सिद्धार्थ ने खुदकुशी कर ली, उस खुदकुशी से जुड़े तथ्य हैं. मैं सरकार और सदन का ध्यान आकर्षित करना चाहता हूं कि उनका आयकर अधिकारी की तरफ से उत्पीड़न किया गया है. यह बहुत ही संवदेनशील मामला है, सरकार को जांच करना चाहिए.'

मशहूर कॉफी चेन कैफे कॉफी डे (CCD) के मालिक और पूर्व विदेश मंत्री एसएम कृष्णा के दामाद वीजी सिद्धार्थ का शव नेत्रावती नदी से बरामद किया गया है. वह सोमवार रात से लापता थे. सिद्धार्थ के ड्राइवर के बयान के बाद उनके नदी में कूदकर आत्महत्या करने की आशंका जताई जा रही थी. सिद्धार्थ की तलाश के लिए पुलिसकर्मी, तटरक्षक बल, गोताखोर और मछुआरे समेत 200 लोगों को लगाया गया था. मंगलुरू पुलिस कमिशनर संदीप पाटिल ने बताया कि 'बुधवार तड़के हमने शव को पानी के ऊपर तैरते हुए देखा... इसके बाद बॉडी को नदी से बाहर निकाला.' आगे की कार्यवाही के लिए शव को वेनलॉक हॉस्पिटल भेज दिया गया है. सीरीनगिरी के विधायक टीडी राजगौड़ा ने बताया कि वीजी सिद्धार्थ के परिजनों ने तय किया है कि उनका अंतिम संस्कार पैतृक गांव बेलूरू तालुका में किया जाएगा.

पुल से लापता होने का मामला दर्ज किया था
इससे पहले सिद्धार्थ के ड्राइवर ने मंगलुरू में एक पुलिस स्टेशन में उनके पुल से लापता होने का मामला दर्ज कराया था. बताया जा रहा है कि सिद्धार्थ बिजनेस के सिलसिले में सोमवार को इनोवा कार से चिकमंगलुरू गए थे. उसके बाद वह केरल जा रहे थे. लेकिन मंगलुरू के एक निकट एक नेशनल हाईवे पर उन्‍होंने ड्राइवर से कार रोकने को कहा और गाड़ी से उतर गए.

फोन स्विच ऑफ होने पर परिवार को सूचना दी
ड्राइवर ने परिवार के सदस्‍यों को बताया था कि नेशनल हाईवे पर जेपीना मोगारू नामक जगह पर उन्‍होंने गाड़ी रोकने के लिए कहा. उस वक्‍त वह किसी से फोन पर बात कर रहे थे. उनके गाड़ी से उतरने के बाद ड्राइवर ने उनका इंतजार किया लेकिन जब वह आधे घंटे तक नहीं लौटे तो ड्राइवर ने फोन किया लेकिन सिद्धार्थ का फोन स्विच ऑफ बताने लगा. इसके बाद ड्राइवर ने तत्‍काल सिद्धार्थ के परिवार को सूचना दी थी.

कौन हैं वीजी सिद्धार्थ?
सिद्धार्थ कर्नाटक के चिकमंगलुरू से ताल्‍लुक रखते हैं. वह पूर्व विदेश मंत्री एसएम कृष्‍णा के सबसे बड़े दामाद थे. पोस्‍ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने के बाद उन्‍होंने मुंबई के जेएम फाइनेंशियल लिमिटेड से कॅरियर शुरू किया था. बाद में वह बेंगलुरू शिफ्ट हो गए सीवान सेक्‍युरिटीज नाम से कंपनी शुरू की. 2000 में कंपनी का नया नाम ग्‍लोबल टेक्‍नोलॉजी वेंचर्स रखा गया. इसके अलावा उन्होंने 1996 में कैफे कॉफी डे (Cafe Coffee Day) की शुरुआत की. उनको चिकमंगलुरू की कॉफी को दुनिया में लोकप्रिय बनाने का श्रेय जाता है.

 

नई दिल्ली : मशहूर कॉफी चेन कैफे कॉफी डे (CCD) के मालिक और पूर्व विदेश मंत्री एसएम कृष्णा के दामाद वीजी सिद्धार्थ का शव नेत्रावती नदी से बरामद किया गया है. वह सोमवार रात से लापता थे. सिद्धार्थ के ड्राइवर के बयान के बाद उनके नदी में कूदकर आत्महत्या करने की आशंका जताई जा रही थी. सिद्धार्थ की तलाश के लिए पुलिसकर्मी, तटरक्षक बल, गोताखोर और मछुआरे समेत 200 लोगों को लगाया गया था. मंगलुरू पुलिस कमिशनर संदीप पाटिल ने बताया कि 'बुधवार तड़के हमने शव को पानी के ऊपर तैरते हुए देखा... इसके बाद बॉडी को नदी से बाहर निकाला.' आगे की कार्यवाही के लिए शव को वेनलॉक हॉस्पिटल भेज दिया गया है. सीरीनगिरी के विधायक टीडी राजगौड़ा ने बताया कि वीजी सिद्धार्थ के परिजनों ने तय किया है कि उनका अंतिम संस्कार पैतृक गांव बेलूरू तालुका में किया जाएगा.

पुल से लापता होने का मामला दर्ज किया था
इससे पहले सिद्धार्थ के ड्राइवर ने मंगलुरू में एक पुलिस स्टेशन में उनके पुल से लापता होने का मामला दर्ज कराया था. बताया जा रहा है कि सिद्धार्थ बिजनेस के सिलसिले में सोमवार को इनोवा कार से चिकमंगलुरू गए थे. उसके बाद वह केरल जा रहे थे. लेकिन मंगलुरू के एक निकट एक नेशनल हाईवे पर उन्‍होंने ड्राइवर से कार रोकने को कहा और गाड़ी से उतर गए.

फोन स्विच ऑफ होने पर परिवार को सूचना दी
ड्राइवर ने परिवार के सदस्‍यों को बताया था कि नेशनल हाईवे पर जेपीना मोगारू नामक जगह पर उन्‍होंने गाड़ी रोकने के लिए कहा. उस वक्‍त वह किसी से फोन पर बात कर रहे थे. उनके गाड़ी से उतरने के बाद ड्राइवर ने उनका इंतजार किया लेकिन जब वह आधे घंटे तक नहीं लौटे तो ड्राइवर ने फोन किया लेकिन सिद्धार्थ का फोन स्विच ऑफ बताने लगा. इसके बाद ड्राइवर ने तत्‍काल सिद्धार्थ के परिवार को सूचना दी थी.

कौन हैं वीजी सिद्धार्थ?
सिद्धार्थ कर्नाटक के चिकमंगलुरू से ताल्‍लुक रखते हैं. वह पूर्व विदेश मंत्री एसएम कृष्‍णा के सबसे बड़े दामाद थे. पोस्‍ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने के बाद उन्‍होंने मुंबई के जेएम फाइनेंशियल लिमिटेड से कॅरियर शुरू किया था. बाद में वह बेंगलुरू शिफ्ट हो गए सीवान सेक्‍युरिटीज नाम से कंपनी शुरू की. 2000 में कंपनी का नया नाम ग्‍लोबल टेक्‍नोलॉजी वेंचर्स रखा गया. इसके अलावा उन्होंने 1996 में कैफे कॉफी डे (Cafe Coffee Day) की शुरुआत की. उनको चिकमंगलुरू की कॉफी को दुनिया में लोकप्रिय बनाने का श्रेय जाता है.