close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुपुर्द-ए-खाक हुए करुणानिधि, और यूं हुआ द्रविड़ राजनीति के एक बड़े युग का अंत

इससे पहले राज्य सरकार ने करुणानिधि के पार्थिव शरीर को मरीना बीच पर दफनाने की अनुमति नहीं दी थी, जिसके बाद द्रमुक ने अदालत का रुख किया था और आखिरकार अदालत ने द्रमुक के पक्ष में फैसला सुनाया. 

सुपुर्द-ए-खाक हुए करुणानिधि, और यूं हुआ द्रविड़ राजनीति के एक बड़े युग का अंत
करुणानिधि का अंतिम संस्कार मरीना बीच पर उनके गुरु अन्ना की समाधि के पास किया गया

चेन्नई : दिवंगत द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) नेता व तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एम करुणानिधि पार्थिव शरीर की राजाजी हॉल से लेकर मरीना बीच तक अंतिम यात्रा शुरू हो गई. इस यात्रा मेें बड़ी संख्‍या में लोग शामिल हैं. 

इससे पहले राज्य सरकार ने करुणानिधि के पार्थिव शरीर को मरीना बीच पर दफनाने की अनुमति नहीं दी थी, जिसके बाद द्रमुक ने अदालत का रुख किया था और आखिरकार अदालत ने द्रमुक के पक्ष में फैसला सुनाया. इस फैसले के बाद मरीना बीच पर सुरक्षा बढ़ा दी गई. वहांं करुणानिधि को दफनाए जाने की तैयारियां पूरी कर ली गईं. करुणानिधि को दफनाने के लिए यहां क्रेन के जरिये एक बड़ा गड्ढा खोदा गया है. 

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गाधी ने करुणानिधि के पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन कर उन्‍हें श्रद्धांजलि अर्पित की. वहीं, बिहार के पूर्व उप मुख्‍यमंत्री और राजद नेता तेजस्‍वी यादव के अलावा यूपी के पूर्व सीएम और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भी यहां पहुंचकर करुणानिधि को श्रद्धांजलि अर्पित की. 

 

 

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश हुलुवडी जी. रमेश और न्यायमूर्ति एस.एस. सुंदर ने द्रमुक और राज्य सरकार के वकीलों की दलील सुनने के बाद यह आदेश दिया. राज्य सरकार ने अपनी दलील में कहा था कि मरीना बीच पर दफनाने से पर्यावरण कानूनों और तट के सुरक्षा के नियमों का उल्लंघन होगा. द्रमुक नेता व वकील कन्नदासन ने पत्रकारों से कहा कि अदालत ने राज्य सरकार से करुणानिधि के अंतिम संस्कार की व्यवस्था करने के लिए कहा है.

 

 

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्रमुक नेता एम करुणानिधि को श्रद्धांजलि देने और अंतिम संस्‍कार में शामिल होने के लिए करीब साढ़े दस बजे चेन्‍नई पहुंचे. इसके बाद पीएम मोदी राजाजी हॉल पहुंचे, जहां उन्‍होंने करुणानिधि के पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन कर उन्‍हें श्रद्धांजलि अर्पित की. इस दौरान उन्‍होंने करुणानिधि के पुत्र एमके स्‍टालिन और पुत्री कनिमोझी और परिवार एवं पार्टी के अन्‍य सदस्‍यों से बातचीत कर उन्‍हें सांत्‍वना भी दी. 

 

ये भी पढ़ें- एम करुणानिधि को दाह संस्‍कार की जगह दफनाया जाएगा, आखिर क्‍यों?

दरअसल, तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और DMK प्रमुख एम करुणानिधि का मंगलवार शाम करीब 6.10 बजे 94 साल की उम्र में निधन हो गया था. करुणानिधि ने चेन्नई के कावेरी अस्पताल में आखिरी सांस ली थी. करुणानिधि के निधन की खबर से पूरे देशभर में शोक की लहर है. करुणानिधि का पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए चेन्‍नई के राजाजी हॉल में रखा गया है. उनके अंतिम दर्शन के लिए हजारों की संख्‍या में लोग उमड़ रहे हैं. डीएमके समर्थकों की संख्या को देखते हुए पुलिस भी हाई अलर्ट पर है.

M. Karunanidhi
एम. करुणानिधि का पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए राजाजी हॉल में रखा गया था (फोटो-IANS)

ये भी पढ़ें- एम करुणानिधि को मरीना बीच पर ही दफनाने के लिए DMK क्‍यों अड़ी है?

सुबह तमिलनाडु के मुख्‍यमंत्री ई पलानीस्वामी और डिप्‍टी सीएम ओ पनीरसेल्‍वम ने भी डीएमके प्रमुख को श्रद्धांजलि दी. वहीं, सुपरस्टार रजनीकांत अपने दामाद धनुष के साथ राजाजी हॉल पहुंचे और उन्‍होंने करुणानिधि के पार्थिव शरीर को श्रद्धांजलि दी. करुणानिधि के सम्‍मान में राज्‍य में एक दिन के सरकारी अवकाश की घोषणा की गई है. चेन्‍नई और उसके आसपास की दुकानें बंद रखी गई हैं.

Karunanidhi
करुणानिधि के निधन से पूरे तमिलनाडु में शोक छाया हुआ है, उनके समर्थक फूट-फूटकर रोते हुए देखाई दे रहे हैं (फोटो-PTI)

करुणानिधि की अंतिम यात्रा में लाखों लोगों का हुजूम उमड़ा हुआ है. उनका पार्थिक शरीर अंतिम दर्शन के लिए राजाजी हॉल में रखा गया था. उनके पार्थिव शरीर के तिरंगे झंडे में लपेट कर रखा गया है. चेन्नई समेत पूरे तमिलनाडु में मातम पसरा हुआ है. बड़ी संख्या में लोगों को रोते-बिलखते हुए देखा जा सकता है. करुणानिधि के पार्थिव शरीर को राजाजी हॉल से मरीना बीच स्थित अन्ना मेमोरियल ले जाया जा रहा है. 

M. Karunanidhi
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चेन्नई स्थित राजाजी हॉल पहुंचकर एम. करुणानिधि को श्रद्धांजलि दी (फोटो-PTI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत देश के तमाम दिग्गज नेता उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए चेन्नई पहुंचे. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, सपा प्रमुख अखिलेश यादव, आरजेडी नेता तेजस्वी यादव समेत तमाम नेताओं ने राजाजी हॉल पहुंचकर दिवंगत डीएमके नेता को अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए.

LIVE: करुणानिधि की अंतिम यात्रा शुरू, अंतिम दर्शन के लिए चेन्नई में उमड़ा जनसैलाब
करुणानिधि के अंतिम दर्शन के लिए चेन्नई की सड़कों पर जनसैलाब उमड़ा हुआ है (फोटो-IANS)

करुणानिधि की अंतिम यात्रा जैसे-जैसे मरीना बीच की तरफ बढ़ रही है, लोगों की भीड़ बढ़ती ही जा रही है. बहुत से लोग काफी पहले से ही मरीना बीच पर जुटे हुए हैं. भीड़ को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. बता दें कि राजाजी हॉल में अंतिम दर्शन के दौरान उमड़ी भीड़ में भगदड़ मचने से दो लोगों की मौत हो गई थी और कई लोग घायल हो गए थे. इस घटना को देखते हुए प्रशासन के साथ-साथ डीएमके नेता लोगों से संयम रखने की अपील कर रहे हैं.

Karunanidhi
करुणानिधि के निधन पर मुदरई की सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है (फोटो-PTI)

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री के पार्थिव शरीर को तिरंगे में लपेट कर फूलों से सजे मिलिट्री वाहन में रखा गया है. राजाजी हॉल से मरीना बीच स्थित अन्ना स्क्वायर की दूरी करीब तीन किलोमीटर है, लेकिन रास्ते में उमड़े जनसैलाब के कारण यह इस यात्रा में करीब दो घंटे लगेंगे. अन्ना स्क्वायर पर तमाम नेता पहुंच चुके हैं. पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, गुलाम नबी आजाद, चंद्रबाबू नायडू, करुणानिधि के बेटे स्टालिन, बेटी कनिमोझी समेत परिवार के तमाम लोग मरीना बीच पर मौजूद हैं. शाम करीब 6.15 बजे उनकी शव यात्रा मरीना बीच पहुंची. यहां मौजूद सेना के तीनों अंग, जल-थल-वायु सेना के जवानों ने उन्हें सलामी दी.

LIVE: मरीना बीच पहुंचा करुणानिधि का पार्थिव शरीर, थोड़ी देर में होगा अंतिम संस्कार

मरीना बीच पर अंतिम संस्कार से पहले वहां मौजूद तमाम नेताओं ने उन्हें अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए. तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने भी उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की. अंतिम संस्कार से पहले करुणानिधि के पार्थिक शरीर से लिपटा तिरंगा झंडा हटाकर उनके बेटे स्टालिन को सौंपा गया. उनके परिवार के सभी लोगों ने पार्थिव शरी पर पुष्प अर्पित किए.

LIVE : सुपुर्द-ए-खाक हुए करुणानिधि, यूं हुआ द्रविड़ राजनीति के बड़े युग का अंत

मरीना बीच पर करीब आधा घंटे तक श्रद्धांजलि देने का सिलसिला चला. उसके बाद द्रविण नेता के पार्थिक शरीर को ताबूत में रखा गया. जैसे ही उनके शरीर को ताबूत में रखा गया, वहां मौजूद लोगों के सब्र का बांध टूट गया, लोगों की आंखें नम हो गईं. बहुत से लोग जोर-जोर से विलाप करते नजर आए.

Karunanidhi

शाम 7 बजे उनके शरीर को सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया. और इस तरह तमिलनाडु की राजनीति का एक बड़ा सूरज हमेशा के लिए अस्त हो गया.