close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर समेत राजस्थान के कई शहरों में भगवान सूर्य को दिया गया अर्घ्य, उमड़ी भीड़

बिहार के छठ की राजस्थान के कई शहरों में धूम रही. राजस्थान के जयपुर समेत कई अन्य शहरों में रहने वाले बिहारियों ने इस त्योहार को धूमधाम से मनाया.

जयपुर समेत राजस्थान के कई शहरों में भगवान सूर्य को दिया गया अर्घ्य, उमड़ी भीड़
जयपुर में अर्ध्य देने के दौरान उमड़ी भीड़.

विष्णु शर्मा, जयपुर: सूर्य देव और छठ मैया(Chhath Festival) की उपासना के पर्व पर शनिवार को अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देने के लिए जयपुर शहर(Jaipur City) के गलता तीर्थ में लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी. बड़ी संख्या में महिलाओं और पुरुषों ने पानी में खड़े होकर अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देकर मनौति मांगी. वहीं रविवार सुबह उदयमान सूर्य को अर्घ्य देने के बाद छठ के व्रत का पारण करेंगे. 

दिवाली के बाद राजस्थान भर में छठ का पर्व धूम धाम से मनाया जा रहा है. 31 अक्टूबर को नहाय खाय के साथ शुरू हुए इस आस्था के इस पर्व में भगवान सूर्य और छठी मईया की पूजा की गई. 36 घंटे व्रत के बाद महिलाएं एवं पुरूष रविवार सुबह उदियात को अर्घ्य देकर व्रत का पारण करेंगे.

इससे पहले शनिवार को लोगों ने मिलजुल कर घरों में प्रसाद बनाया. इसके बाद शाम को सूप में प्रसाद सजाकर बड़ी संख्या में व्रती अपने परिवार के साथ शहर के गलता तीर्थ पहुंचे. व्रतियों ने गलता कुंड में खड़े होकर डूबते सूर्य को अर्घ्य  दिया. व्रतियों भगवान सूर्य और छह मैया से अपनी मनौतियां मांगी.

जयपुर शहर के गलता तीर्थ के साथ ही कानोता बांध, प्रताप नगर सहित कई जगह सामूहिक रूप से सूर्य को अर्घ्य दिया गया. लोगों ने संतान, परिवार की सुख-समृद्धि की कामना के लिए आराधना की. अब रविवार को उदयगामी सूर्य को अर्घ्य देकर व्रत का पारण करेंगे. गलता में लोगों ने आज रात से ही डेरा जमा लिया है. रातभर महिलाएं छठ मैया के गीतों से गलता घाटी को गुलजार करेंगी. सुबह सूर्योदय के साथ ही कुंड में खड़े होकर अर्घ्य देंगे.

कोटा में भी चार दिवसीय छठ पूजा पर्व धूम धाम से मनाया जा रहा है. यहां के किशोर सागर तालाब किनारे, बारहदरी पर बिहार के रहने वाले लोगों ने छठ पूजा के दौरान डूबते हुए सूर्य की पूजा की.

इस दौरान तालाब में खड़े होकर कई महिलाओं व पुरुषों ने डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया. इस दौरान सुख शांति के साथ मंगलकामना की.

पूजा के दौरान बड़ी संख्या में महिला, पुरुष व बच्चे शामिल रहे. व्रत के दौरान निर्जला रह महिलाओ ने सूर्य भगवान को प्रसाद चढ़ाई. जिसके बाद कल सुबह उगते सूर्य को अर्घ्य देने तैयारी में व्रर्ती जुट गए.