डोकलाम विवाद के बाद चीन ने नहीं किया सीमा उल्लंघन: वायु सेना प्रमुख

वायु सेना प्रमुख ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘दोनों पक्षों ने भरोसा पैदा करने वाले कदम उठाए हैं. 

डोकलाम विवाद के बाद चीन ने नहीं किया सीमा उल्लंघन: वायु सेना प्रमुख
भारतीय वायुसेना के प्रमुख बीएस धनोआ.(फाइल फोटो)

गुवाहाटी: भारतीय वायुसेना के प्रमुख बीएस धनोआ ने गुरुवार को कहा कि चीन ने नौवहन की दिक्कतों के कारण एक या दो घटनाओं को छोड़कर भारतीय वायु क्षेत्र में घुसपैठ नहीं की और साथ ही दोनों पक्ष अरुणाचल प्रदेश में मानी गई वास्तविक नियंत्रण रेखा का पालन कर रहे हैं. उन्होंने यह भी कहा कि वायु सेना के मैदानों को पूर्वोत्तर में वायु संपर्क में सुधार लाने के लिए विकसित किया गया और नागरिक विमान ऑपरेटरों का विमान उड़ाने के लिए स्वागत किया गया. वायु सेना प्रमुख ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘दोनों पक्षों ने भरोसा पैदा करने वाले कदम (सीबीएम) उठाए. हमारे लड़ाकू विमान मानी गई वास्तविक नियंत्रण रेखा से 10 या 12 किलोमीटर से कम की दूरी तक नहीं आते.

व्यापक रूप से सीबीएम कायम किया जा रहा है और दोनों पक्ष एक-दूसरे के वायु क्षेत्र का उल्लंघन नहीं करते. ’’ धनोआ इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि क्या चीन ने हाल ही में भारतीय वायु क्षेत्र का कोई उल्लंघन किया. बहरहाल, उन्होंने यह माना कि नौवहन संबंधी दिक्कतों के कारण एक या दो उल्लंघन के मामले हो सकते हैं. धनोआ ने कहा, ‘‘डोकलाम गतिरोध और उसके बाद गगन शक्ति अभ्यास के दौरान भी दोनों पक्षों की ओर से कोई उल्लंघन नहीं हुआ.

सीबीएम कायम है और दोनों पक्ष इसका सम्मान करते हैं. ’’ एयर चीफ मार्शल ने यह भी कहा कि गत वर्ष फरवरी में वेस्टर्न थिएटर कमांड के चीनी एयर कमांडर के साथ उनकी बैठक के दौरान यह निर्णय लिया गया कि ‘‘हमें एक-दूसरे से ज्यादातर जमीन पर मुलाकात करनी चाहिए ना कि वायु क्षेत्र में.’’ नागरिक उड्डयन विमानों को अरुणाचल प्रदेश में चीनी सीमा के साथ स्थित वायु सेना के लैंडिंग मैदानों का इस्तेमाल करने की मंजूरी देने पर उन्होंने कहा, ‘‘पूर्वी वायु कमान के पास तवांग, अलोंग, तूतिंग, मेचुका, जीरो में आठ नए मैदान हैं. ’’

उन्होंने कहा, ‘‘सभी तैयार हैं और इनमें से कुछ को पहले ही नागरिक यातायात की मंजूरी मिल गई है और इससे पर्यटन बढ़ा है. ’’ धनोआ ने कहा कि हमारे मैदान लोगों के इस्तेमाल के लिए खुले हैं और ‘‘हम किसी का भी स्वागत करने के लिए तैयार हैं जो नियमित आधार पर अपनी सेवाओं का संचालन करने के लिए हमारे मैदान पर आना चाहते हैं.’’ 

इनपुट भाषा से भी