चित्तौडगढ़: मादक पदार्थों को लेकर ACB हुई सख्त, SHO समेत कई लोग गिरफ्तार

एसीबी ने हाल ही में नारकोटिक्स महकमे में चल रहे बड़े घूसखोरी के खेल को उजागर करते हुए करप्शन की परतें खोलकर रख दी थी.

चित्तौडगढ़: मादक पदार्थों को लेकर ACB हुई सख्त, SHO समेत कई लोग गिरफ्तार
कई जिलों में अफीम की खेती भ्रष्टाचार की जड़ बनती जा रही है.

चित्तौडगढ़: राजस्थान ACB ने बुधवार को एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए विधायक क रिश्वत देने वाले SHO और उसके दलालों को भी गिरफ्तार किया. वैसे तो मादक पदार्थों को लेकर कानून तो बेहद सख्त है, लेकिन चित्तौडगढ़ समेत अन्य जिलों में अफीम की खेती भ्रष्टाचार की जड़ बनती जा रही है.

खबर के मुताबिक, किसान जब अफीम की खेती करता है और अगर वह खेती गैरकानूनी रूप से करता है तो नियमानुसार डोडा पोस्त के नष्टिकरण की प्रक्रिया को अंजाम दिया जाता है. लेकिन यह भी सच है कि वहीं से करप्शन का कीड़ा रेंगना शुरू कर देता है.

एसीबी ने हाल ही में नारकोटिक्स महकमे में चल रहे बड़े घूसखोरी के खेल को उजागर करते हुए करप्शन की परतें खोलकर रख दी थी. एसीबी ने इस पूरे मामले पर यह खुलासा किया था कि आखिर कैसे जिन लोगों पर जिम्मेदारी है मादक पदार्थों की तस्करी को रोकने की है, उन्ही लोगों के हाथ भ्रष्टाचार में सने हुए हैं.

गौरलतब है कि, पंजाब से लेकर राजस्थान तक के युवा नशे की जद में है. राजस्थान के सीएम समेत अन्य राज्यों के सीएम भी इस विषय को लेकर बैठक कर चुके है. लेकिन हमारे प्रदेश में बैठकर जिम्मेदार सिर्फ अपनी जेब भरने के लिए मादक पदार्थों की तस्करी को बढ़ावा दे रहे हैं. साथ ही, वह हर दिन भ्रष्टाचार को जन्म दे रहे है.

हालांकि, राजस्थान एसीबी के डीजी डॉ आलोक त्रिपाठी, एडीजी सौरभ श्रीवास्तव और आईजी दिनेश एमएन के कुशल नेतृत्व में ताबड़तोड़ कार्रवाई की गई है उसके बाद चित्तौडगढ़ समेत अन्य उन ईलाकों में थोड़ा करप्शन थमा है. जहां अफीम, डोडा पोस्त को लेकर जबरदस्त करप्शन था, वहां, जिम्मेदार नारकोटिक्स ऑफिसर्स और खाकी का करप्शन वाला गठजोड़ एसीबी की कार्रवाइयों के बाद में टूटता हुआ दिखाई दे रहा है.